DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गूगल-एप्पल के ओएस से कारें हो जाएंगी स्मार्ट

गूगल-एप्पल के ओएस से कारें हो जाएंगी स्मार्ट

स्मार्टफोन को कार के साथ कनेक्ट करना। यह काफी पुरानी बात हो गई है। कार कंपनियों के आग्रह पर गूगल, एप्पल जैसी दिग्गज कंपनियां कारों के लिए नए-नए सॉफ्टवेयर बना रही हैं। जोकि स्मार्टफोन में मौजूद होंगे। इनकी मदद से ड्राइविंग को आसान बनाया जा सकेगा। इसके लिए गूगल एक प्रोजेक्टेड मोड पर काम कर रहा है।

एंड्रॉयड आधारित डिस्प्ले तकनीक से इंफोटेनमेंट सिस्टम तैयार होगा। जिसे मोबाइल और टैबलेट से जोड़ा जा सकेगा। मर्सिडीज बेंज की मूल कंपनी से मिली खबरों के अनुसार कार में एक ऐसा सिस्टम लगाया जाएगा जिसमें कॉल, मैसेज नेवीगेशन और मल्टीमीडिया जैसे खूबियां मौजूद होंगी। यह सिस्टम कार के डैशबोर्ड में ही लगा होगा। कार को ड्राइव करते वक्त यूजर को स्मार्टफोन की बजाए डैशबोर्ड से ही स्मार्टफोन को हैंडल करने की सुविधा मिलेगी। स्मार्टफोन कार के संपर्क में आते ही पेयर्ड हो जाएगा। 

तकनीक का खुलासा नहीं
गूगल ने हालांकि इसका खुलासा नहीं किया है कार से स्मार्टफोन कैसे कनेक्ट होगा। उम्मीद है कि इसमें ब्लूटूथ टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जाएगा। अगर ऐसा होता है तो तकनीक में ज्यादा कुछ नयापन नहीं होगा। गूगल के इस सॉफ्टवेयर की खूबी यह है कि इसकी मौजूदगी वाले स्मार्टफोन किसी भी कंपनी के कार से कनेक्ट हो जाएंगे। अभी कार से कॉल करने की सुविधा नहीं है। ड्राइवर मोबाइल और स्मार्टफोन से ही कॉल करते हैं। ऑटो निर्माता भी चाहते हैं कि मोबाइल से कार की दोस्ती गहरी होनी चाहिए।

एप्पल ला रहा खास आईओएस
लग्जरी केलिए दुनिया भर में मशहूर एप्पल इंक कारों के साथ आईफोन का रिश्ता मजबूत करने के लिए खास आईओएस लाने की तैयारी में है। देखना यह है कि नई तकनीक को लाने में कौन किस पर भारी पड़ता है। सूत्रों की मानें तो एप्पल अपने इस ओएस को लेकर अधिक आक्रामक है। वह जल्द ही इसे पेश कर सकता है। उम्मीद है कि एप्पल का यह ओएस सबसे पहले मर्सिडीज बेंज में आएगा। अटकलें इस बात की भी है एप्पल अगले हफ्ते जिनेवा मोटर शो में इसे दिखा सकता है। इस साल की शुरुआत में एप्पल ने ओपन ऑटोमैटिव एलायंस (ओएए) को लॉन्च किया था। ऑटो एक्सपर्ट के अनुसार कारों के इंटरनेट से लैस हो जाने से कई महत्वपूर्ण बदलाव होंगे। कहीं भी जाने में न सिर्फ आसानी होगी, बल्कि जीपीएस जैसी सुविधाएं तमाम कामों में सहूलियत प्रदान करेगी।

एक स्क्रीन से होंगे सारे काम
एप्पल के मुताबिक उसके नए ओएस से कार के डैशबोर्ड में मौजूद स्क्रीन की मदद से न सिर्फ कॉल करना, मैसेज पढ़ना संभव होगा। बल्कि कार नेवीगेशन में मदद करेगी। एप्पल ने इसे कार प्ले का नाम दिया है। टचस्क्रीन को छूते ही कॉल रिसीव हो जाएगी। इसके बाद कार वाइस कमांड पर काम करेगी।

अभी यूएसबी से जोड़ने की सुविधा
कुछ अन्य कार निर्माता कंपनी कार से यूएसबी के माध्यम से आईओएस सिस्टम जोड़ने की सुविधा देती हैं। लेकिन इसके तहत जरूरी नहीं है कि कार से यह कनेक्ट ही हो। यूएसबी के जरिए कनेक्ट करने में एक दिक्कत यह है कि कार में आसानी से मीडिया एक्सेस नहीं किया जा सकता।

किन सुविधाओं की मांग?
कार निर्माता चाहते हैं कि कार कंपनियां ऐसे ओएस और तकनीक बनाएं जिससे कार में ई-मेल, मैसेज, सोशल मीडिया अपडेट को पढ़ना संभव हो। वाइस कमांड से रूट मैप और कॉल करने की सुविधा भी हो। दुर्घटना होने की स्थिति में एंबुलेंस को सूचना खुद ब खुद पहुंच जाए। इतना ही नहीं कार में ऐसी तकनीक हो जो क्लाउड कनेक्टीविटी को सपोर्ट करे। अभी जो कारें मौजूद हैं उनमें ब्लूटूथ कनेक्टीविटी मौजूद है। जिसकी मदद से गानों को सिंक किया जा सकता है। या फोन को कार के स्पीकर से जोड़ा जा सकता है। स्मार्ट कार में ‘श्री’ और ओके गूगल जैसे फीचर्स की मांग की जा रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गूगल-एप्पल के ओएस से कारें हो जाएंगी स्मार्ट