DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अतरौलिया बोर्ड की परीक्षा बनी मजाक

हिन्दुस्तान संवाद अतरौली। तहसील में इस बार भी नकल का बोल बाला रहा। नकल को रोकने की व्यवस्थाएं पहले दिन ही ध्वस्त नजर आईं। हिन्दी के पेपर में भी मास्टर माइंड गैस पेपर चले। नकल के नकेल डालने के लिए तैनात किए गए सेक्टर मिजस्ट्रेट भी अपने सभी सेंटरों तक को नहीं देख पाए। आठ बजे के बाद सड़कों पर दौड़ते दिखाई दिए सेक्टर मिजस्ट्रेट्रों को कहीं भी नकल नहीं मिली।

अव्यवस्थाओं के बीच हुआ पहला पेपर सुबह साढ़े सात बजे से शुरू हुई हाईस्कूल हिन्दी की परीक्षा में अव्यवस्थाएं देखने को मिली। परीक्षा देने के लिए आए गैर जनपदों के परीक्षािर्थयों को मािफया द्वारा नकल की सभी सुविधाएं उपलब्ध कराई गईं। परीक्षािर्थयों की सूची में दो साल का बालक भी परीक्षािर्थयों की सूची में भेजे गए अनुक्रंमाक नंबरों के आगे एक दो साल के बालक का फोटो चस्पा किया हुआ है यह बात अलग है कि इस अनुक्रमांक नंबर का परीक्षार्थी अनुपस्थित है।

केन्द्र व्यवस्थापक मोहित वाष्र्णेय ने बताया कि कालेज में आधे से अधिक परीक्षार्थी अनुउपस्थित हैं। काफी संख्या में परीक्षािर्थयों की सूची में फोटो ही चस्पा नहीं है। साथ ही फोटो अस्पष्ट होने के कारण परीक्षा दे रहे बच्चों की पहचान मुशि्कल से हो पा रही है। नकल के लिए चौकस व्यवस्थापहले पेपर में नकल के झंडे गाड़ने के लिए मािफया ने अधिकारियों पर पैनी नजर रखी। कालेज में नकल रोकने के लिए बनाए गए सचल दल की िनगरानी करते हुए लठाधारी सड़क के दोनों ओर दिखाई दिए।

अधिकारियों की गाड़ी आने पर यह सचल दल संदेश वाहक का काम करते दिखाई दिए। नकल की पुनरावृित्त होगीमाध्यिमक शिक्षा पिरषद बोर्ड की हाईस्कूल और इंटर की पहले पेपर में बनाई गई व्यवस्थाएं फेल नजर आई हैं। शिक्षकों की भारी कमी के कारण परीक्षा कराने कीजिंम्मेदारी नकल के सौदागरों पर ही आ गई है। पिरषदीय शिक्षकों की संख्या अंगुिलयों पर िगनने लायक रह गई है। नकल की ढाल बनी बैठकेंआसन्न लोक सभा और स्नातक विधान पिरषद के होने वाले चुनाव को लेकरजिंला मुख्यालय पर होने वाली बैठकों में तहसील स्तरीय अधिकारियों के शामिल होने का पूरा लाभ शिक्षा मािफया उठा रहे हैं।

पहले दिन ही दूसरी पारी की इंटर की परीक्षा में न तो अधिकारी दिखाई दिए न ही सेक्टर मिजस्ट्रेटों के रास्ते में दर्शन हुए। इनकी व्यस्तता के कारण नकल का भरपूर मौका मािफया और छात्रों के हाथ आया। नकल से खुश नजर आए पप्पूपहले पेपर में भरपूर मिली नकल से खुश पप्पुओं की जेबें तराशने का मौका मािफया को मिल गया है। छह मार्च को होने वाले हाई स्कूल के दूसरे पेपर गिणत में इसी प्रकार से नकल कराने से पहले तय शुदा रकम की मांग करने वाले मािफया ने कहा है कि अगर गिणत के पेपर में दाम नहीं आए तो नकल नहीं कराई जाएगी।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अतरौलिया बोर्ड की परीक्षा बनी मजाक