DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वरुण के खिलाफ नोटिस जारी करने के आदेश

 पीलीभीत। विधि संवाददाता। भाजपा के राष्ट्रीय महासचवि/सांसद वरुण गांधी को भड़काऊ भाषण मामलों में सीजेएम कोर्ट से बरी किए जाने के फैसलों के खिलाफ सेशन कोर्ट में लंबित अपीलों पर सोमवार को भी सुनवाई नहीं हो सकी। सांसद को भेजे गए नोटिस अभी तक तामील होकर वापस नहीं आए और न ही उनकी ओर से कोर्ट में कोई हाजिर हुआ। अब इन तीनों अपीलों पर अगली सुनवाई सात अप्रैल 2014 को होगी।

जिला सेशन जज वीके मिश्रा ने सांसद के खिलाफ फिर से नोटिस जारी करने के आदेश दिए हैं। अभियोजन के अनुसार वर्ष 2009 में हुए लोक सभा चुनाव के दौरान बरखेड़ा थाने और सदर कोतवाली में उनके खिलाफ भड़काऊ भाषण के दो मुकदमे दर्ज हुए थे। इन मामले में उन पर आरोप था कि उन्होंने बरखेड़ा और शहर के मोहल्ला डालचंद में भणकाऊ भाषण दिया और चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन किया है। पुलिस उन्हें गिरफ्तार नहीं कर सकी। वरुण ने 28 मार्च को कोर्ट में सरेंडर कर दिया।

कोर्ट ने उन्हें न्यायिक अभिरक्षा में लेकर जेल भेज दिया। सीजेएम कोर्ट से उनकी जमानत मंजूर हो गई। बाद में सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर उन्हें 16 अप्रैल को एटा जेल से रहिा कर दिया गया। इन दोनों मुकदमों का ट्रायल सीजेएम कोर्ट में हुआ। अभियोजन की ओर से पचास से अधिक गवाह पेश किए गए। ट्रायल के बाद सीजेएम कोर्ट ने इन दोनों मामलों में सांसद को साक्ष्य के अभाव में बरी कर दिया। सामाजिक कार्यकर्ता मो. असद हयात ने बरखेड़ा प्रकरण में निचली अदालत के फैसले को चुनौती देते हुए सेशन कोर्ट में अपील दाखिल की।

वहीं राज्य सरकार की ओर से भी दोनों मुकदमों में अपीलें दाखिल की गईं। जिला सेशन जज ने इन तीनों अपीलों को सुनवाई के लिए मंजूर कर लिया। सांसद के खिलाफ तीनों मामलों में नोटिस जारी किए गए। अब तक कोई भी नोटिस तामील होकर वापस नहीं आया। इसकी के चलते सोमवार को इन अपीलों पर सुनवाई नहीं हो सकी। अदालत ने सांसद के खिलाफ फिर से नोटिस जारी करने के आदेश दिए हैं। अब इन तीनों अपीलों पर सात अप्रैल को सुनवाई होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:वरुण के खिलाफ नोटिस जारी करने के आदेश