DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कुएं की खुदाई मुकम्मल सभी 282 शहीदों की अस्थियां मिली

पंजाब के अजनाल में 157 साल पहले अंग्रेज सरकार के खिलाफ आजादी के लिए आवाज उठाने वाले जिन 282 भारतीय सैनिकों को शहीद करके कुएं में फेंक दिया गया था उनकी अस्थियां को ढूंढने के लिए गुरुद्वारा शहीगंज शहीदां वाला खूह प्रबंधक कमेटी द्वारा खुदाई का काम कल शाम मुकम्मल कर लिया गया।
        
कुएं पर शोध करने वाले इतिहासकार सुरेंद्र कोछड़ के अनुसार खुदाई के काम में शामिल स्थानीय गैर सरकारी संगठनों और गुरुद्वारा कमेटी ने कल शाम खत्म हुई खुदाई में सभी 282 सैनिकों की अस्थियां निकाल ली हैं। जिनमें 5० खोपडियां 4० से ज्यादा साबूत जबडे 5०० से ज्यादा दांत, कुछ गोलियां व्रिटिश इंडिया कम्पनी के एक एक रुपए के 47 सिकके जिन पर महारानी विक्टोरिया की तस्वीर बनी हुई है मिले हैं। इसके अलावा सोने के चार मोती, सोने के तीन तवीत, 2 अंगूठियां और काफी सामान मिला है।
        
उन्होंने बताया कि खुदाई के दौरान मिलने वाले सारे सामान को स्मारक के स्थान पर बनाए जाने वाले संग्रहालय के लिए सुरक्षित रख लिया गया है। कुएं में एक के साथ एक सटे सात शहीदों के कंकालों से साफ जाहिर हो रहा था कि वे एक दूसरे पर चढकर कुएं से बाहर निकलने की कोशिश कर रहे थे लेकिन उनकी हिम्मत ने उनका साथ नहीं दिया।
        
उन्होंने पंजाब सरकार से मांग की है कि इन अस्थियों के संस्कार के लिए तुरंत जगह और शहीदों की अस्थियों के लिए सुरक्षा मुहैया करवाई जाए। अजनाला के एसडीएम सुरिद्र सिंह ने विश्वास दिलाया है कि शहीदों के कुएं और संबंधी रिपोर्ट सरकार को भेजी जाएगी। अस्थियों की कुछ जरुरी जांच कराए जाने के बाद तथा सरकार द्वारा संस्कार और उनके समाधि स्मारक के लिए उचित जगह मिलने पर अजनाला में ही इन अस्थियों का संस्कार किया जाएगा।
        
अमरजीत सिंह के अनुसार जैसे जलियां वाला बाग में शहीदों का स्मारक बनाया गया है वैसे ही शहीदी स्मारक स्थानीय शहीदी कुएं पर भी बनाया जाएगा। अस्थियों के दर्शन करने के लिए भारी मात्रा में लोग पहुंच रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कुएं की खुदाई मुकम्मल सभी 282 शहीदों की अस्थियां मिली