DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आखिरकार मान गए एनडी तिवारी, बोले रोहित मेरा बेटा

आखिरकार मान गए एनडी तिवारी, बोले रोहित मेरा बेटा

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एनडी तिवारी ने सोमवार को आखिरकार रोहित शेखर को अपना जैविक बेटा मान लिया, जिससे इस मुद्दे पर लंबे समय से जारी कानूनी लड़ाई समाप्त हो गई। रोहित ने तिवारी को उनका जैविक पिता होने का दावा करते हुए अदालत का दरवाजा खटखटाया था।

तिवारी ने कहा कि मैं उसे (रोहित) अपने बेटे के रूप में स्वीकार करता हूं। यह दो साल पहले ही साबित हो गया था, जब मेरा डीएनए उससे मिल गया था। मुझे इस महान परिवार से अपने जुड़ाव पर गर्व है। जो कुछ हुआ, मैं अब इस मामले को खत्म करना चाहता हूं और सार्वजनिक रूप से उसे अपने जैविक पुत्र के रूप में स्वीकार करता हूं।

डॉक्टर उज्वला ने कहा कि उन्होंने और उनके बेटे रोहित शेखर ने कल उत्तराखंड सदन में एनडी तिवारी से मुलाकात की थी। बैठक के दौरान, तिवारी ने रोहित को अपना बेटा मान लिया। उज्वला शर्मा ने कहा कि मुझे उनके सहयोगियों से पता चला कि वह नियमित जांच के लिए एम्स आए हैं। मैं उनसे मिलने गई।

उन्होंने कहा कि तिवारी ने कहा कि वह (कानूनी लड़ाई) लड़ते-लड़ते थक गये हैं और यहां तक कि मैंने भी उनका तनाव और भावनात्मक व्याकुलता महसूस की। मैंने उनसे कहा कि रोहित भी परेशान है। इसके बाद उन्होंने रोहित से मिलने की इच्छा जताई।

करीब साढ़े ग्यारह बजे रोहित ने तिवारी से मुलाकात की। तिवारी ने उसे (रोहित) गले लगाया और लंबे समय तक उससे बात की। वर्षों में यह पहली बार है कि तिवारी ने रोहित से लंबी बात की। यह मुलाकात ढ़ाई बजे तक चली।

रोहित ने कहा कि मैं खुश हूं कि एनडी तिवारी ने आखिरकार इस तथ्य को स्वीकार किया कि मैं उनका बेटा हूं। वरना हम 21 अप्रैल को यह मामला जीत जाते। एम्स में डॉक्टरों ने पुष्टि की कि 89 वर्षीय तिवारी नियमित जांच के लिए शनिवार को वहां आए थे।

एक वरिष्ठ डॉक्टर ने कहा कि तिवारी एम्स में नियमित रूप से आते हैं और वह सामान्य जांच के लिए कुछ समय के लिए यहां भर्ती हुए थे। वह ह्रदय रोगी हैं। उनकी नियमित जांच हुई और खून के कई परीक्षण हुए।

तिवारी आज एम्स के रेडियोडाएग्नोसिस विभाग में भी गये, क्योंकि उनके कुछ परीक्षण शनिवार को पूरे नहीं हो पाए थे। रोहित शेखर ने वर्ष 2008 में तिवारी के खिलाफ अदालत का दरवाजा खटखटाते हुए दावा किया था कि वह कांग्रेसी नेता और उसकी मां के प्रेम प्रसंग से जन्मी संतान है।

वर्ष 2012 में पितृत्व मामले के लिए तिवारी की डीएनए जांच के लिए जबरन नमूने लिये गये थे, जिससे तिवारी के रोहित के जैविक पिता होने की बात साबित हुई थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आखिरकार मान गए एनडी तिवारी, बोले रोहित मेरा बेटा