DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्मार्टफोन से आए महक

स्मार्टफोन से आए महक

चाहे फिल्म का परदा हो या फिर टेलीविजन, दूर से देखे जाने वाले मनोरंजन के साधनों का आनंद लेने में सिर्फ दो इंद्रियां इस्तेमाल होती हैं- आंख और कान। स्मार्टफोन जैसे हाथ में रहने वाले टचस्क्रीन युक्त गैजेट्स में तीसरी इंद्रिय (स्पर्श) का भी इस्तेमाल कर लिया गया है। सिनेमा, टीवी और स्मार्टफोन में थ्री डी तकनीक के आने के बाद मनोरंजन और भी अधिक वास्तविक प्रतीत होने लगा है। लेकिन अनुभव को पूरी तरह वास्तविक बनाने के मामले में एक चीज की कमी खलती रही है और वह है गंध। क्या ही अच्छा होता कि सिनेमा के परदे पर गुलाबों के बगीचे का दृश्य आने पर थिएटर में गुलाबों की खुशबू भी महसूस होती और रसोईघर के सीन में सहज ही मुंह  में पानी ले आने वाले पकवानों की गंध! फिल्मों में ऐसे प्रयोग करने के प्रयास जरूर हुए हैं, लेकिन अधिक व्यावहारिक सिद्ध नहीं हुए।

लेकिन अब एक प्लग-इन गैजेट की बदौलत स्मार्टफोन पर दृश्य, ध्वनि और स्पर्श के साथ-साथ गंध का अनुभव करना भी संभव हो गया है। काम के अनुरूप ही इस गैजेट का नाम है- सेन्टी, जिसका इस्तेमाल एंड्रॉयड और आइफोन दोनों किस्म के स्मार्टफोनों पर किया जा सकता है। जापान में बना यह गैजेट फोन के हैडफोन सॉकेट में फिट हो जाता है। एक बार स्मार्टफोन और सेन्टी के बीच पेयरिंग (कनेक्शन जुड़ने) के बाद आपका सामान्य सा फोन किस्म-किस्म की खुशबू निकालने लगता है। अब आप चाहें तो अलग-अलग व्यक्ति के फोन कॉल को अलग-अलग किस्म की खुशबू के साथ जोड़ सकते हैं। उसी तरह, जैसे अलग-अलग कॉल के लिए अलग-अलग रिंगटोन सेट की जाती है। सोशल नेटवर्किंग, गेम्स, एसएमएस और नोटिफिकेशन्स के साथ भी अलग-अलग खुशबू अटैच की जा सकती है। यानी चाहें तो कोई प्रेम भरा एसएमएस भेजते समय साथ में गुलाब की खुशबू भी भेज दीजिए और गेम खेलते हुए फायरिंग के समय बारूद की खुशबू से अपना अनुभव अधिक वास्तविक बना लीजिए।

सेन्टी को संचालित करने के लिए उसकी एप्लिकेशन इन्स्टॉल करनी होती है, जिसमें तमाम तरह की सेटिंग्स की जा सकती हैं, जैसे हर एक घंटे में कोई अच्छी सी खुशबू निकालना। सेन्टी की रंग-बिरंगी एलईडी लाइट्स इसके प्रभाव को और बढ़ा देती हैं। जिस तरह प्रिंटर में टोनर या इंक कार्ट्रिज डाला जाता है, उसी तरह इस प्लग-इन में खुशबुओं के लिए एक कैप्सूल डलता है, जो पहली बार साथ ही आता है। प्लग-इन गैजेट की कीमत है करीब दो हजार रुपए और उसके बाद नया कैप्सूल डलवाने पर खर्च आता है करीब तीन सौ रुपए। हर कैप्सूल का इस्तेमाल सौ बार किया जा सकता है।

पहले यह सिर्फ जापान में उपलब्ध था, लेकिन हाल ही में इसका अंतरराष्ट्रीय लॉन्च किया गया है। अब सवाल उठता है कि इसमें कैसी-कैसी महक उपलब्ध है। सो संतरे, कॉफी, पुदीना, गुलाब, स्ट्रॉबेरी, दालचीनी, पके हुए आलुओं, सब्जी की तरी, धनिया, संतरा, नारियल जैसी दर्जनों खुशबुओं का कलेक्शन तैयार किया जा चुका है और सिलसिला अभी जारी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:स्मार्टफोन से आए महक