DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सीमांध्र को विशेष दर्जा तो बिहार को क्यों नहीं

सीमांध्र को विशेष दर्जा तो बिहार को क्यों नहीं

बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिए जाने की मांग को लेकर सत्तारूढ़ जनता दल यूनाइटेड (जदयू) ने रविवार बिहार बंद रखा। इस मौके पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि केंद्र सरकार जान-बूझकर बिहार को विशेष राज्य का दर्जा नहीं दे रही है। उन्होंने सवाल किया कि अगर सीमांध्र को कुछ दिनों में यह दर्जा दिया जा सकता है, तो बिहार को क्यों नहीं।

नीतीश कुमार ने सरकार के मंत्रियों, सांसदों, विधायकों, पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं के साथ रविवार को अपने आवास 1 अणे मार्ग से गांधी मैदान तक पैदल मार्च किया। लगभग छह किमी की दूरी उन्होंने डेढ़ घंटे में पूरी की। गांधी मैदान में महात्मा गांधी की प्रतिमा के नीचे वह सत्याग्रह पर बैठे। उन्होंने कहा कि विशेष राज्य का दर्जा बिहार हक है। हम अपना हक लेकर रहेंगे। उन्होंने सत्याग्रह में शामिल लोगों को संकल्प दिलाया कि बिहार को जब तक विशेष राज्य का दर्जा नहीं मिल जाता है, वे इसके लिए संघर्ष करते रहेंगे।

65 ट्रेने रोकीं
जदयू कार्यकर्ताओं ने पूरे राज्य में 65 ट्रेनें रोककर केन्द्र सरकार के प्रति अपने गुस्से का इजहार किया। इस कारण जहां-तहां स्टेशनों पर घंटों ट्रेनें रुकीं रहीं। जदयू कार्यकर्ताओं ने राज्यभर में राष्ट्रीय राजमार्गों को भी जाम किया। अपने-अपने क्षेत्र में राज्य सरकार के मंत्री, सांसद और विधायक सड़क पर उतरे। इस चलते राजभवन से लेकर गांधी मैदान तक घंटों जाम लगा रहा।

नीतीश का संकल्प
मुख्यमंत्री सत्याग्रह पर बैठने के तुरंत बाद लोगों से मुखातिब होते हुए कहा सब लोग स्थिर चित्त होकर बैठेंगे। यह संकल्प लेना है कि हम अपना हक हासिल करके दम लेंगे। उन्होंने वहां मौजूद बंद समर्थकों को संकल्प दिलाया कि जब तक हम अपना हक हासिल नहीं कर लेते, संघर्ष जारी रखेंगे।

राजद और भाजपा पर निशाना
मुख्यमंत्री ने कहा कि इस मुद्दे पर 1.18 करोड़ लोगों का हस्ताक्षर कराकर सौंपा। कुछ दिन पहले हमें यह लगा कि विशेष दर्जे को लेकर केंद्र काम कर रहा है। वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने भी इस आशय का बयान दिया था पर बीच में ही काम रोक दिया गया। सीमांघ्र को बिना किसी मांग के 24 घंटे के अंदर विशेष राज्य का दर्जा दे दिया गया। राजद सुप्रीमो पर निशाना साधा कि बिहार के जो लोग केंद्र सरकार के साथ थे, उन्होंने भी यह मुनासिब नहीं समझा कि बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिलवा दें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सीमांध्र को विशेष दर्जा तो बिहार को क्यों नहीं