DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

झारखंड भी रहा बंद जनजीवन अस्त-व्यस्त

झारखंड भी रहा बंद जनजीवन अस्त-व्यस्त

विशेष राज्य की मांग को लेकर रविवार को झारखंड बंद रहा। जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया। राजधानी के अलावा धनबाद, बोकारो, जमशेदपुर, देवघर, दुमका, मेदिनीनगर, हजारीबाग और अन्य शहरों में दुकानें बंद रहीं। सड़क और रेल आवागमन प्रभावित रहा।

राजधानी का जिला मुख्यालयों से संपर्क टूटा रहा। तीन हजार से अधिक बंद समर्थक गिरफ्तार किए गए। इनमें झाविमो सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी और आजसू सुप्रीमो सुदेश महतो तथा कई अन्य विधायक शामिल थे। शाम को सभी को छोडम् दिया गया। बंद का आह्वान झाविमो, आजसू और जदयू ने किया था।

बंद समर्थक सुबह से ही सड़कों पर उतर आए थे। रांची में बाबूलाल मरांडी और सुदेश महतो ने कमान संभाल रखी थी। कई जगहों पर टायर जलाए गए। रेलगाडियां रोकी गईं। धनबाद में राजधानी एक्सप्रेस और कई अन्य ट्रेनों को रोका गया। जमशेदपुर में पुरुषोत्तम, उत्कल और स्टील एक्सप्रेस रोकी गई। एनएच 23 और 33 पर दिन भर सन्नाटा पसरा रहा। कई जगहों पर एनएच को जाम किया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:झारखंड भी रहा बंद जनजीवन अस्त-व्यस्त