DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पीएचईडी के दो तत्कालीन अभियंता निलंबित

मुजफ्फरपुर। कार्यालय संवाददाता। स्वजल धारा योजना के तहत मीनापुर के गोरीगामा पंचायत में जलापूर्ति को पाइप लाइन निर्माण में घपला के मामले में बोचहां प्रखंड के तत्कालीन सहायक अभियंता वाल्मीकि पासवान और कनीय अभियंता देवन दास को निलंबित कर दिया गया है। लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण विभाग ने दोनों के निलंबन की अधिसूचना जारी कर दी है।

वाल्मीकि पासवान अभी मुंगेर और देवनदास सुल्तानगंज में प्रतिनियुक्त थे। गोरीगामा पंचायत में 1.5 करोड़ रुपये से पाइप लाइन व पंप का निर्माण होना था। पीएचईडी के अभियंता को निरीक्षण और पर्यवेक्षण की जिम्मेदारी थी। निर्माण से पूर्व ही योजना की राशि एजेंसी को चेक के माध्यम से दे दिया गया था।

मामले में नगिरानी जांच में घपला साबित होने पर नगिरानी थाने में एफआईआर दर्ज करायी गई थी। पीएचईडी के तत्कालीन कार्यपालक अभियंता गणेश प्रसाद यादव को सेवानिवृत्त होने के दिन 31 दसिंबर 2013 को निलंबित किया गया।

वाल्मीकि पासवान और देवन दास के विरुद्ध विभागीय कार्रवाई लंबित थी। नगिरानी अन्वेषण ब्यूरो ने गोरिगामा पंचायत के मुखिया सुधीर कुमार को भी मामले में आरोपित किया है। अभियंताओं के विरुद्ध एस्टीमेट में भी गड़बड़ी करने का भी मामला पाया गया है।

पीएचईडी की अधिकांश जलापूर्ति योजनाएं ठप : मीनापुर विधायक दिनेश प्रसाद ने बताया कि पीएचईडी ने ग्रामीण जलापूर्ति योजना के नाम पर बड़े पैमाने पर घपलेबजी की है। केवल गोरीगामा का ही मामला नहीं है, मीनापुर प्रखंड क्षेत्र में पीएचईडी के अधिकांश पंप से पानी नहीं मिल पा रहा है।

पंप चलते ही पाइप लाइन में जगह-जगह रिसाव होता था। क्षेत्र में इंडिया मार्का 2 ब्रांड के 80 प्रतिशत चापाकल खराब हैं। ये चापाकल निर्माण के एक माह के अंदर ही खराब हो गये थे। सुधार नहीं होने पर विधानसभा में भी सवाल उठाया।

विधायक ने आरोप लगाया कि अभियंताओं ने बड़े पैमाने पर गड़बड़ी की है। मैंने तत्कालीन मंत्री से सभी योजनाओं का नगिरानी जांच कराने के लिए पत्र भी दिया था। कांटी के विधायक अजीत कुमार ने भी क्षेत्र में बंद पड़े पंप हाउस और जलमीनारों की जांच कराने की मांग उठा चुके हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पीएचईडी के दो तत्कालीन अभियंता निलंबित