DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बंद के कारण ढाई सौ बसों का परिचालन रहा ठप

मुजफ्फरपुर। कार्यालय संवाददाता। बिहार बंद के कारण उत्तर बिहार के विभिन्न जिलों से वाया बैरिया और भगवानपुर गुजरने वाली लगभग ढाई सौ बसें रविवार को पूरी तरह ठप रहीं। सुबह पांच बजे से नौ बजे के दौरान मुजफ्फरपुर होकर 24 बसें बाहर को निकली लेकिन गायघाट, गोरौल और भगवानपुर में कुल 18 बसें दिन भर फंसी रही।

सुबह में निकलीं छह बसें ही अपने गंतव्य तक पहुंच पाईं, जिनमें दो पटना, तीन दरभंगा और एक सीतामढ़ी की बस थी। बंद के दौरान सरकारी बस स्टैंड में सरकारी बसें दिन भर खड़ी रहीं तो बैरिया बस पड़ाव में भी बसों की लम्बी कतार दिखी।

बस संचालकों ने बताया कि बंदी की पूर्व घोषणा के कारण यात्री भी घर से नहीं निकले और कुछ बसें चलने को तैयार भी हुईं तो उन्हें सवारी नहीं मिली। बंद के दौरान शहर और ग्रामीण क्षेत्र के बीच चलने वाली सभी 26 सिटी बसें शाम पांच बजे तक ठप रहीं।

इस दौरान ऑटो परिचालन भी बुरी तरह प्रभावित हुआ और रोज दिन दौड़ने वाले लगभग चार हजार ऑटो में से बमुश्किल पांच सौ ऑटो ही सड़क पर दिखाई दिए। बंद की घोषणा के कारण रविवार को यात्रियों की भी कमी रही और इक्के दुक्के यात्री फंसते हुए किसी तरह स्टेशन और बस स्टैंड तक तो पहुंच गए, लेकिन वहां भी उन्हें निराशा हाथ लगी। स्टेशन पर काफी देर तक रेल परिचालन बाधित रहा और शाम पांच बजे तक यात्रियों को बसें भी नहीं मिली।

स्टैंड में खड़ी रहीं अधिकांश सरकारी बसें: मुजफ्फरपुर डिपो से खुलने और यहां से गुजरने वाली लगभग 75 सरकारी बसों का परिचालन रविवार को ठप रहा। रविवार को सुबह पांच बजे से पहले सीतामढ़ी के लिए चार गाड़ी खुल सकीं और इसके बाद परिचालन बाधित रहा।

सामान्य दिनों में इस डिपो से सीतामढ़ी के लिए 20 बसें हैं। इसी तरह दरभंगा एक गाड़ी जा सकी। पटना के लिए निर्धारित 15 बसों में से शाम छह बजे तक एक का भी परिचालन संभव नहीं हो सका।

इसके अलावा कन्हौली, पचपकड़ी, घोघरडीहा, साहेबगंज, केसरिया के लिए एक भी सरकारी बस नहीं खुल सकी। डिपो सुपरिटेंडेंट एमके चौरसिया ने बताया कि शाम साढ़े पांच बजे के बाद बसों का परिचालन शुरू हुआ और इस दौरान सीतामढ़ी व पटना के लिए बसें खुलीं।

निजी बसों के परिचालन का भी बुरा हाल: बैरिया बस स्टैंड से रक्सौल के लिए दस में से एक भी गाड़ी बंद के दौरान नहीं खुल सकी। इसी तरह बेतिया के लिए तीस, शिवहर के लिए 20, भिट्ठामोड़ के लिए 20, मधवापुर के लिए पांच, लौकहा के लिए चार, लदनिया के लिये तीन, सुपौल के लिए तीन, सहरसा के लिए एक, वीरपुर के लिए पांच, तेरहागाछी के लिए एक गाड़ी निर्धारित हैं, लेकिन रविवार को इन स्थानों के लिए एक भी बस नहीं खुली।

जजुआर व जाले के लिए दस में से एक बस खुली जबकि हथौड़ी, जाताकाटा, साहेबगंज, देवरिया, लालगंज, महुआ, फेनहारा, नयागांव, सिवान, छपरा, गोपालगंज, समस्तीपुर, ढाका तथा मोतिहारी के लिए एक भी बस नहीं खुल सकी। हालांकि दिन में पटना के लिए दो, सीतामढ़ी के लिए दो, दरभंगा के लिए दस तथा बेगूसराय के लिए एक बस रवाना हुई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बंद के कारण ढाई सौ बसों का परिचालन रहा ठप