DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

11 करोड़ बिहारियों की मांग है विशेष राज्य का दर्जा

भागलपुर। कार्यालय संवाददाता। बिहार को विशेष राज्य के दर्जा की मांग को लेकर जदयू के बिहार बंद को नेता-कार्यकर्ताओं ने सफल बताया। जिला जदयू के नेताओं ने कहा कि बंद को शहरवासियों का भरपूर समर्थन मिला। नेताओं ने कहा कि यह एकजुटता दिखाकर लोगों ने केंद्र सरकार को चेतावनी दी है। अगर आगे इस मांग पर केंद्र सरकार विमर्श नहीं करेगी तो और तेज आंदोलन होगा।

इसमें राज्यसभा के लिए निर्वाचित कहकशां परवीन, जदयू के जिलाध्यक्ष पंचम श्रीवास्तव, प्रदेश महासचवि सह जिला संगठन प्रभारी परमहंस कुमार, महानगर अध्यक्ष एसएम तारिक अनवर ने बंद को सफल बनाने के लिए जनता को बधाई दी है।

स्टेशन चौक पर धरना को संबोधित करते हुए कहकशां परवीन ने कहा कि केंद्र सरकार ने 24 घंटे के अंदर सीमांध्र को विशेष राज्य का दर्जा दे दिया। जबकि बिहार की मांग को ठुकरा दिया। केंद्र सरकार बिहारी समाज के अधिकार का हनन कर रही है।

बिहार के साथ किए गए इस अन्याय में भाजपा भी बराबर की भागीदार है। अगर भाजपा चाहती तो तेलांगना के बंटवारे के वक्त इस मुद्दे पर केंद्र सरकार को सहमत कर सकती थी। जिलाध्यक्ष पंचम श्रीवास्तव ने कहा कि इस मुद्दे को भुनाने की अवसरवादी सोच के तहत भाजपा ने बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग को हाशिये पर रखा। उन्होंने कहा कि आज विशेष राज्य का दर्जा की मांग 11 करोड़ बिहारियों की है। यहां के लोग अपने इस अधिकार को लेकर रहेंगे।

मंच संचालन गुरुचरण गुप्ता ने किया। धन्यवाद ज्ञापन मो. नसीमउद्दीन ने किया। इसमें सीपीआई के सचवि सुधीर शर्मा, सुदामा सिंह, अभिमन्यु, गणेश सिंह, सूर्यनारायण दास, राजकिशोर मंडल, उमेश मंडल, अवधेश राय, माकपा के दशरथ प्रसाद, मनोहर मंडल, अरुण मंडल के अलावा समाजवादी पार्टी के जिलाध्यक्ष सैयद असद इकबाल भी शामिल हुए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:11 करोड़ बिहारियों की मांग है विशेष राज्य का दर्जा