DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गठबंधन से पूर्व बिहार में भाजपा को राहत

भागलपुर, रवीन्द्र नाथ तिवारी। लोजपा से गठबंधन के बाद पूर्व बिहार में भाजपा को बड़ी राहत मिली है। गठबंधन में इस क्षेत्र की जो तीन सीटें मुंगेर, खगड़िया और जमुई लोजपा को गई है, उनपर भाजपा को उम्मीदवार नहीं मिल रहे थे। इसलिए इस गठबंधन से भाजपा के बड़े नेता उत्साहित हैं।

तीनों सीटों पर जदयू के सांसद हैं। मुंगेर लोकसभा क्षेत्र में जदयू सांसद ललन सिंह के खिलाफ भाजपा अपने पूर्व मंत्री और विधान पार्षद गिरिराज सिंह को लड़ना चाहती थी लेकिन वे तैयार नहीं थे। वे बेगूसराय से लड़ना चाहते थे।

गिरिराज के अलावा भाजपा के पास कोई दूसरा सशक्त उम्मीदवार नहीं था। हाल यह था कि सारण के जदयू विधान पार्षद डा. महाचंद्र प्रसाद सिंह अपनी पार्टी पर यह कहकर दबाव बना रहे थे कि पार्टी उन्हें टिकट दे, नहीं तो भाजपा उन्हें मुंगेर से टिकट देने को तैयार है।

सूत्रों के अनुसार भाजपा ने धार्मिक न्यास बोर्ड के अध्यक्ष किशोर कुणाल को भी मुंगेर से लड़ने का ऑफर दिया था, लेकिन वे भी यहां के लिए तैयार नहीं हुए। भाजपा का एक खेमा पूर्व मंत्री ओर जदयू नेता आरएन सिंह का नाम चला रहा था।

बताया जा रहा है कि लोजपा यहां से पूर्व सांसद सूरजभान की पत्नी वीणा कुमारी को उतारने की तैयारी में है। मुंगेर के बगल में खगड़िया लोकसभा क्षेत्र से भी भाजपा में उम्मीदवार के नाम पर सन्नाटे की स्थिति थी।

कुछ लोग पूर्व विधायक चंद्रमुखी देवी या कुछ अन्य स्थानीय कार्यकर्ताओं का नाम उछाल रहे थे लेकिन इन नामों को पार्टी चुनाव लड़ने लायक नहीं मान रही थी। यहां जदयू के दिनेशचंद्र यादव सांसद हैं।

उनके खिलाफ लोजपा की ओर से पार्टी के राष्ष्ट्रीय अध्यक्ष रामविलास पासवान के भाई पशुपति पारस के लड़ने की चर्चा है। वे अलौली के विधायक और बिहार सरकार के मंत्री रह चुके हैं। भाजपा सूत्रों के अनुसार जमुई में तो एमपी चुनाव के उम्मीदवारों का और भी अकाल था।

यहां जदयू के भूदेव चौधरी सांसद हैं। यहां लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामविलास पासवान के बेटे चिराग पासवान का चुनाव लड़ना तय माना जा रहा है।

हर सीट पर मिलेगा लाभ : शाहनवाज

भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता और सांसद सैयद शाहनवाज हुसैन का कहना है कि लोजपा का साथ मिलने से भाजपा को हर सीट पर लाभ मिलेगा। वोट का प्रतिशत बढ़ जाएगा। लोजपा को अपना वोट बैंक है। रामविलास पासवान का दलितों पर खासा असर है। इसका लाभ भागलपुर सीट पर भी मिलने जा रहा है।

चिराग आएं या रामविलास, कोई फर्क नहीं : भूदेव जमुई के जदयू सांसद भूदेव चौधरी ने कहा कि उनके यहां रामविलास पासवान लड़ें या उनके बेटे चिराग, इससे उनकी स्थिति पर कोई फर्क नहीं पड़ने वाला है। जनता जानती है कि लोजपा रामविलास के परिवार की पार्टी है।

रामविलास ने गोधरा कांड को लेकर नरेन्द्र मोदी को क्या नहीं कहा था, लेकिन एमपी बनने के लिए फिर उन्हीं से हाथ मिला लिया। बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के कामकाज की जनता कायल है। दावा किया कि यहां जदयू की जीत तय है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गठबंधन से पूर्व बिहार में भाजपा को राहत