DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

14 घंटे में बंदरगाह पहुंचेंगे कृषि उत्पाद

ग्रेटर नोएडा। वरिष्ठ संवाददाता। डीएमआईसी परियोजना के तहत ग्रेटर नोएडा में प्रस्तावित पहली अर्ली बर्ड परियोजना, एकीकृत टाउनशिप के शिलान्यास के मौके पर मौजूद केंद्रीय वाणिज्य मंत्री आनंद शर्मा ने बताया कि अभी प्रदेश के उत्पादों को बंदरगाह तक पहुंचने में 14 दिन लग जाते हैं। इन परियोजनाओं के पूरा हो जाने के बाद उत्पादों के बंदरगाह तक पहुंचने में मात्र 14 घंटे लगेंगे।

उन्होंने कहा कि यूपी सरकार के सहयोगात्मक रुख से ही शिलान्यास संभव हो सका है। इससे पहले मुख्यमंत्री ने केंद्रीय वाणिज्य मंत्री आनंद शर्मा को आश्वासन दिया कि प्रदेश सरकार हर केंद्रीय योजना पर तेजी से काम करेगी। पूरा सहयोग देगी।

मुख्यमंत्री ने वाणिज्य मंत्री को बताया कि एम्स, इंस्टीट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट और सैनिक स्कूल खोलने के लिए सरकार ने तुरंत जमीन उपलब्ध करवाई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि पश्चिमी तथा पूर्वी डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर प्रदेश में मिल रहे हैं।

इससे प्रदेश को बहुत लाभ होगा। ईस्टर्न डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर का सर्वाधिक बड़ा हिस्सा यूपी से होकर गुजरता है। इसका पूरा लाभ प्रदेश को मिलेगा। इससे प्रदेश में औद्योगीकरण में तेजी आएगी।

परियोजना पर एक नजरवेस्टर्न डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर के दोनों ओर लगभग 150-200 किमी की पट्टी में प्रस्तावित डीएमआईसी के प्रभाव क्षेत्र का 12 प्रतिशत हिस्सा यूपी में पड़ता है। राज्य के 12 जनपदों के 36,068 वर्ग किमी क्षेत्र में प्रस्तावित है। दादरी में ईस्टर्न डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर और वेस्टर्न डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर का जंक्शन होगा, जिससे यूपी को सबसे अधिक फायदा होगा।

1483 किमी लंबे दिल्ली-मुंबई इंडस्ट्रियल कॉरिडोर के अंतर्गत उत्तर प्रदेश में दो विकास क्षेत्र चहि्न्ति किए गए हैं। पहला, दादरी-नोएडा-गाजियाबाद निवेश क्षेत्र तथा दूसरा मेरठ-मुजफ्फरनगर औद्योगिक क्षेत्र। इसमें तीन अर्ली बर्ड परियोजनाएं प्रस्तावित हैं। पहली का शिलान्यास रविवार को किया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:14 घंटे में बंदरगाह पहुंचेंगे कृषि उत्पाद