DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खाद्य सामग्री की बरबादी कुपोषण की मुख्य वजह: विश्व बैंक

खाद्य सामग्री की बरबादी कुपोषण की मुख्य वजह: विश्व बैंक

भारत समेत दुनिया के कई देशों में 25 से 33 प्रतिशत खाद्य सामग्री हर वर्ष नष्ट हो जाती है अथवा जूठन के रूप में उसे कूड़ेदान में फेंक दिया जाता है। विश्व बैंक ने अपनी एक रिपोर्ट में चिंता जताई है कि खाद्य सामग्री की बरबादी दौलतमंद और गरीब के बीच खाईं बढ़ाने के साथ ही कुपोषण का एक मुख्य कारण है।

विश्व बैंक के अध्यक्ष जिम यांग किम ने गुरूवार को वाशिंगटन में जारी एक बयान में कहा कि खाद्य पदार्थों का नष्ट होना अथवा उन्हें खाने की थाली से जूठन के रूप में फेंकना संभ्रान्त समझी जानी वाली मानव जाति के लिये शर्मनाक है।

किम ने कहा कि विश्व में करोड़ों लोग ऐसे हैं जिन्हें एक वक्‍त का भोजन बड़ी कठिनाई से मिलता है जबकि कई को बिना भोजन के सोने के लिये बाध्य होना पड़ता है। उन्होंने कहा कि कुपोषित अथवा अल्पपोषित आबादी के तौर पर खास पहचान रखने वाले अफ्रीका और दक्षिण एशियाई देशो में प्रति व्यक्‍ति 400 से 500 कैलोरी का भोजन प्रतिदिन बरबाद किया जाता है हालांकि विकसित देशों में यह आंकड़ा 750 से 1500 कैलोरी प्रति व्यक्‍ति प्रतिदिन का है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:खाद्य सामग्री की बरबादी कुपोषण की मुख्य वजह: विश्व बैंक