DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डीटीओ ने की स्कूली बसों की जांच,एक जब्त, 12 को

रांची। संवाददाता। हिन्दुस्तान का अभियान ‘खतरे का सफर’ रंग लाया। लगातार छप रही खबरों के बाद शनिवार को डीटीओ राजेश कुमार ने इस पर संज्ञान लिया। शिकायतों पर चुस्ती दिखाई और सहजानंद चौक पर स्कूली बसों के खिलाफ चेकिंग अभियान चलाया।

ट्रैफिक एसपी राजीव रंजन और डीएसपी अजय कुमार मिश्र भी मौके पर मौजूद थे। दोपहर एक बजे से डेढ़ घंटे तक चले इस अभियान के दौरान 13 स्कूली बसें पकड़ी गईं।

इसमें से 12 बसों को नोटिस और एक को जब्त कर जगन्नाथपुर थाना भेज दिया गया। स्कूली बच्चों की सुरक्षा के लिए सुप्रीम कोर्ट द्वारा तय किए गए मानकों पर एक भी बस खरा नहीं उतरा।

अधिकांश बसें नियम-कानून को ताक पर रखकर चलाई जा रही थीं। डीटीओ और ट्रैफिक एसपी ने कहा कि स्कूली बच्चों की सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए लगातार अभियान चलाया जाएगा। इस दौरान गड़बड़ी पाए जाने पर ड्राइवरों और संबंधित स्कूल प्रबंधन पर सख्त कार्रवाई होगी।

13 स्कूली बसों का चलानः डेढ़ घंटे तक चले अभियान में 13 में से 12 बसों का चालान किया गया। इनमें टोरियन वर्ल्ड की 3, डीएवी ग्रुप की 4, बशिप वेस्टकॉट की 2, कैंब्रियन स्कूल की 2 और कैराली एवं एसबीएम +स्कूल की एक बस थी। इन बसों में स्कूली बच्चों की सुरक्षा के लिए जाली नहीं लगी थी। एक-दो को छोड़कर किसी बस में न तो बैग रखने के लिए अलग से व्यवस्था थी और न ही सुरक्षा के अन्य इंतजाम थे।

बिशप वेस्टकॉट की बस जब्तः चेकिंग के दौरान बशिप वेस्टकॉट गर्ल्स हाईस्कूल की बस को ट्रैफिक एसपी ने सीज करने को कहा। बस में इंश्योरेंस, फिटनेस, टैक्स के साथ अन्य कागज भी नहीं थे। बस जब्त कर जगन्नाथपुर थाने भेज दी गई।

60 वर्षीय बस ड्राइवर रसूल खान की इस दौरान हालत खराब थी। सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन की परवाह नहींडीटीओ राजेश कुमार के मुताबिक चेकिंग अभियान के दौरान कोई भी बस सुप्रीम कोर्ट द्वारा तय मानक पर खरी नहीं उतरी।

सबमें कोई न कोई गड़बड़ी थी। किसी में न तो जाली लगी थी और न ही सुरक्षा रॉड। कुछ बसों का कागज अपडेट नहीं था। कोई भी ड्राइवर वर्दी में नहीं था। कुछ बसों में फर्स्ट एड बॉक्स भी नहीं था।

लगातार चलेगा चेकिंग अभियानः अधिकतर स्कूली बसों को सुप्रीम कोर्ट द्वारा जारी गाइडलाइन की परवाह नहीं है। न तो स्कूल प्रबंधन को और न ही बस ड्राइवरों को बच्चों की सुरक्षा की चिंता रहती है। डीटीओ राजेश कुमार ने कहा कि लगातार चेकिंग अभियान चलाकर स्कूली बसों में बच्चों की सुरक्षा कायम की जाएगी।

चेकिंग के दौरान गड़बड़ी पाए जाने पर बस ड्राइवर और स्कूल प्रबंधन पर सख्त कार्रवाई होगी। उन्होंने कहा कि अधिकतर स्कूलों में परीक्षाएं चल रही हैं। परीक्षा के बाद अभियान को और तेज किया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:डीटीओ ने की स्कूली बसों की जांच,एक जब्त, 12 को