DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बारिश पर भारी पड़ा खेल आयोजन का जुनून

उरीमारी। निप्र। कोल इंडिया हॉकी टूर्नामेंट का पहली बार बरका-सयाल में आयोजन हो रहा था। चार दिनों के इस टूर्नामेंट में तीन दिनों तक रूक-रूक बरसात होती रही। पर इस बारिश पर खेल आयोजन का जुनून भारी पड़ा। वो प्रक्षेत्र का अधिकारी हो या खेल से जुड़ा कर्मी, सबों ने अदम्य खेल प्रेम का परिचय दिया। बारिश में मैदान से पानी निकालने का कार्य हो या खिलाडिम्यों को बेहतर सुविधा देने का सवाल सबका समुचित हल सफलतापूर्वक निकाल लिया गया।

बरका-सयाल में सफल आयोजन का श्रेय प्रक्षेत्र के सीजीएम सुमित घोष और इनकी टीम को जाता है। हॉकी के आयोजन को अधिकारियों ने चैलेंज के तौर पर लिया था। एक माह पूर्व से ही इसकी सफलता का तानाबाना बुना जा रहा था। जो आज रंग लाया। -सीसीएल में चौथी बार आयोजित हुआ टूर्नामेंटकोल इंडिया हॉकी टूर्नामेंट का सीसीएल में चौथी बार सफल आयोजन हुआ है। इस टूर्नामेंट का आयोजन दो बार रांची, एक बार एनके और पहली बार बरका-सयाल में हुआ है।

-ना तू जीता और ना मैं हारासंयुक्त ही सही सीसीएल ने पहली बार विजेता स्वाद चखा है। हालांकि इस बार सीसीएल की टीम को टूर्नामेंट की विजेता का प्रबल दावेदार माना जा रहा था, पर बारिश ने इसकी हसरतों पर पानी फेर दिया। सीसीएल 2003 के बाद लगातार तीन बार उपविजेता रहा है और एसईसीएल तब से अब तक विजेता। पर इसबार दोनों ना तू जीता और ना मैं हारा का नारा बुलंद कर रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बारिश पर भारी पड़ा खेल आयोजन का जुनून