DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तकरार और हंगामे के कारण पेश नहीं हो सका बजट

स्वार। हिन्दुस्तान संवाद। पालिका बोर्ड की बजट बैठक में हंगामा हो गया। पक्ष-विपक्ष के सभासदों में जमकर नोंकझोंक हुई। हंगामे के चलते एक घंटे तक कार्रवाई स्थगति करना पड़ी। हंगामे की सूचना पर पर पुलिस पहुंच गई। पालिका के नए भवन और शॉपिंग काम्पलेक्स निर्माण के लिए पूर्व में किया गया प्रस्ताव स्थगति करने और ठेका मजदूरों की दैनिक वेतन में इजाफे के प्रस्तावों को मंजूरी देदी गई।

तयशुदा कार्यक्रम के तहत पूर्वान्ह् ग्यारह बजे पालिका बोर्ड की बैठक पालिकाध्यक्ष शफीक अहमद अंसारी की अनुमति से शुरु हुई। अधिशासी अधिकारी सैयद राहत अली ने लेखा लिपिक हरशि्चंद्र को एजेंडे क ो पढ़कर सुनाने के निर्देश दिए। लेकिन विपक्षी सभासदों ने पालिका का नया भवन एवं शॉपिंग काम्पलेक्स बनाने के लिए पूर्व में किए गए प्रस्ताव को खारिज करने का प्रस्ताव रखने की जिद कर दी। पालिकाध्यक्ष ने एजेंडे के तहत कार्रवाई जारी रहने की बात कही। लेकिन विपक्ष के तमाम सदस्यों ने हंगामा करते हुए उनकी बात नहीं मानी।

शराफत हुसैन, इसलाम अंसारी और मोहम्मद अकील की विपक्षी सभासदों से तीखी नोंकझोंक हुई। सभासदों के बीच तकरार और हंगामे की सूचना पुलिस को मिली तो वरिष्ठ उपनिरीक्षक हरशिंकर मिश्रा व उपनिरीक्षक जावेद अली पुलिस बल मौके पर पहुंच गए और अंत तक डटे रहे। बाद में नायब तहसीलदार अशोक कुमार भी पहुंचे। पालिकाध्यक्ष ने स्थिति को संभालने के लिए एक घंटे का वशि्राम घोषित कर दिया। इसके बाद दोबारा बैठक शुरु हुई। पालिकाध्यक्ष ने कहा कि अध्यक्ष और सभासद गाड़ी के दो पहिये हैं।

दोनों साथ चलकर ही पालिका की व्यवस्था चलाई जा सकती है। कहा कि अगर सभासद नहीं चाहते हैं तो पूर्व में कि ए गए प्रस्ताव को स्थगति करने का प्रस्ताव कराया जा सकता है लेकिन इसके लिए सोच समझ कर कदम उठाना चाहिए। उन्होंने विपक्ष को उतावलेपन से बचने की सलाह दी। कहा कि अगर बजट पास नहीं होता तब विकोस कार्य कैसे कराए जाएंगे। जब विपक्ष नहीं माना तब हबीब अहमद के के प्रस्ताव पर पूर्व में किया गया प्रस्ताव निरस्त करने को प्रस्ताव पारित हो गया।

बैठक में वित्तीय वर्ष 2014-15 का बजट पेश किया गया लेकिन इसे अगली बैठक के लिए टाल दिया गया। इसके अलावा बोर्ड ने कम्प्यूटर डाटा कर्मी शारिक के मानदेय में की गई वृद्धि का बोर्ड ने अनुमोदन कर दिया। यही नहीं दैनिक मजदूरों की 120 रुपये दैनिक मजदूरी में 14 रुपये प्रतिदिन की बढ़ाैतरी का प्रस्ताव भी पारित कर दिया गया। बैठक में मोहम्मद अलीम कु रैशी, हबीब अहमद, इसलाम गुड्ड, हाजी टीपू, मशकूर अहमद सैफी, मोहम्मद आजम खां, फराज अहमद, शकील अहमद, इस्सलाम अंसारी, शराफत हुसैन, मोहम्मद अकील अंसारी, अनीस अहमद, नामित सभाद जफरुद्दीन खां, उमसान सैफी, मोहम्मद राशिद अंसारी, महेंद्र सिंह गुच्छू, नादिरा बेगम, रुखसाना बी, मीना रानी, तौफीक बेगम, पूनम सैनी, सईदा बेगम और जमील अहमद, भाईजान कुरैशी, हसीना बानो, मोहम्मद सादिक, मोहम्मद जाहिद अंसारी और बब्बो बेगम आदि सभासद मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:तकरार और हंगामे के कारण पेश नहीं हो सका बजट