अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो चर्च आमने-सामने

ाीइएल चर्च ने एनडब्ल्यूजीइएल चर्च पर अपने 45 स्कूलों पर कब्जा करने का आरोप लगाया है। ये स्कूल झारखंड और छत्तीसगढ़ में हैं। इनमें झारखंड के पांच उच्च विद्यालय, 11 मध्य विद्यालय, 26 प्राथमिक विद्यालय और छत्तीसगढ़ के तीन हायर सेकेंडरी स्कूल शामिल हैं।ड्ढr जीइएल चर्च नार्थ वेस्ट डायसिस के बिशप अमृत जय एक्का ने कहा कि एनडब्ल्यूजीइएल चर्च ने न सिर्फ स्कूलों पर अवैध कब्जा किया है, बल्कि चर्च के शिक्षा विभाग प्रबंधन समिति की अनुमति के बिना शिक्षक-शिक्षिकाओं की नियुक्ित कर राज्य सरकार के शिक्षा विभाग को गुमराह भी कर रहा है।ड्ढr उन्होंने कहा कि जीइएल चर्च निबंधित सोसाइटी है और इन स्कूलों का संचालन जीइएल चर्च के नाम पर किया जा रहा है। यह प्रक्रिया वर्ष 1से जारी है। इस प्रश्न पर कि इस मुद्दे पर जीइएल चर्च अब तक क्यों शांत बना रहा? उन्होंने कहा कि इस दरम्यान दोनों चर्च के प्रतिनिधियों के बीच शांति वार्ता जारी थी। इसलिए कोई भी कार्रवाई नहीं की गयी । लेकिन अब, इस विषय पर शिक्षा विभाग को सूचित करने का निर्णय लिया गया है।ड्ढr इधर, एनडब्ल्यूजीइएल चर्च के बिशप निर्दोष लकड़ा ने एनडब्ल्यूजीइएल चर्च द्वारा जीइएल चर्च के स्कूलों पर कब्जे के आरोप को निराधार बताया।ड्ढr उन्होंने कहा कि वर्ष 1से पहले से ही उपरोक्त सभी स्कूल उत्तरी-पश्चिमी अंचल (एनडब्ल्यूजीइएल चर्च) के प्रबंधन के तहत चलाये जा रहे हैं। इस मुद्दे पर अब तक कोई विवाद नहीं हुआ है। इस अंचल का रानीखटंगा स्थित सिर्फ एक स्कूल ही जीइएल चर्च के प्रबंधन द्वारा संचालित है। बाकी सभी स्कूलों का प्रबंधन एनडब्ल्यूजीइएल चर्च केड्ढr अधीन है।ड्ढr मामले की पृष्ठभूमिड्ढr जीइएल चर्च छोटानागपुर और असम झारखंड की पहली कलीसिया है। इसकी स्थापना जर्मनी के गोस्सनर मिशनरियों ने दो नवंबर 1845 को की थी। वर्तमान में इस कलीसिया के 1687 चर्च हैं, जो झारखंड, असम, पश्चिम बंगाल, ओड़िशा, छत्तीसगढ़, बिहार, दिल्ली और अंडमान में हैं। वर्ष 1में इस कलीसिया में विभाजन हुआ और इसके उत्तरी-पश्चिमी अंचल ने अपने को एक नयी कलीसिया घोषित कर दिया।ड्ढr इस नयी कलीसिया को एनडब्ल्यूजीइएल चर्च नाम दिया गया। इस नयी कलीसिया का विस्तार झारखंड, असम, पश्चिम बंगाल, बिहार, छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश, ओडिशा और दिल्ली में हो चुका है। इन राज्यों में इस कलीसिया के 720 चर्च हैं। जानकारों का कहना है कि इस विवाद का मूल कारण जीइएल चर्च के एक हिस्से द्वारा स्वायत्तताड्ढr की घोषणा किया जाना है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: दो चर्च आमने-सामने