DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिमाग के लिए खतरनाक है मोबाइल फोन का इस्तेमाल

ेंद्र सरकार ने चेताया है कि मोबाइल फोन से होने वाला विकिरण खतरनाक होता है। इससे दिमाग के ऊतकों को गंभीर रूप से नुकसान होता है। सरकार ने मोबाइल सेवा प्रदाता कंपनियों से कहा है कि वे अपने विज्ञापनों में बच्चों और गर्भवती महिलाओं द्वारा मोबाइल के इस्तेमाल को दिखाने से बचें।ड्ढr ड्ढr दूरसंचार मंत्रालय द्वारा जारी दिशा-निर्देशों में कहा गया है कि बच्चों, गर्भवती महिलाओं और दिल के मरीाों को मोबाइल फोन का ज्यादा इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। इससे निकलने वाली इलेक्ट्रोमैग्नेटिक तरंगें दिमाग के ऊतकों को काफी नुकसान पहुंचाती हैं। 16 साल से कम उम्र के बच्चों के दिमाग के ऊतक काफी मुलायम होते हैं इसलिए उनमें यह खतरा ज्यादा बढ़ जाता है। मंत्रालय ने मोबाइल फोन तकनीक के बार में जागरूकता पैदा करने के लिए प्रभावी कार्यक्रम बनाने और उसे व्यापक रूप से लागू करने की जरूरत पर बल दिया है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने मोबाइल के अत्यधिक इस्तेमाल से सेहत पर पड़ने वाले असर को जानने के लिए एक अध्ययन शुरू कराया है, जो पांच साल तक चलेगा। मंत्रालय ने रडियो फ्रीक्वेंसी रडिएशन से आदमी पर पड़ने वाले असर को जानने के लिए भारत में पहली बार ऐसा अध्ययन शुरू कराया है जो जेएनयू का स्कूल ऑफ एनवायरन मेंटल साइंसेज करेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: दिमाग के लिए खतरनाक है मोबाइल फोन का इस्तेमाल