DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एग्जामिनेशन फोबिया से बचें परीक्षार्थी

रांची। संवाददाता। शनिवार से सीबीएसई 12वीं की परीक्षाएं शुरू हो गई है। वहीं तीन मार्च से 10वीं की परीक्षा शुरू हो जाएंगी। परीक्षा को लेकर इन दिनों बच्चों में घबराहट, बेचैनी, डर लगना, नर्वस महसूस करना समस्याएं आम हैं। इन्हें एग्जामिनेशन फोबिया कहते हैं।

छात्र-छात्राएं इससे कैसे बचें? इसके लिए मनोवैज्ञानिक और विहेवियर साइंस स्पेशलिस्ट डॉ पवन कुमार वर्णवाल का कहना है कि इस समय बच्चों को एक्जामिनेशन फोबिया से बचाने के लिए सिर्फ अभिभावक ही प्रेरित कर सकते हैं।

बच्चों का सहयोग करेंअभिभावक इस समय बच्चों को एग्जामिनेशन फोबिया और विभिन्न प्रकार के दवाबों से दूर रखें। उनकी तुलना दूसरे बच्चों से न करें। न ही उनके सामने परीक्षा को हौवा बनायें। बच्चों पर बेवजह दबाव न डालें। बच्चों को खुद पर भरोसा रखने के लिए प्रेरित करें।

उन्हें डांटे नहीं, न ही अपमानित या नीचा दिखाने की कोशशि करें। बच्चों को थोड़ा समय दें, हिम्मत बढ़ाने के साथ-साथ उनके साथ अपना अनुभव बांटे। मां इस समय बच्चों पर खास ध्यान दें, घर के वातावरण को स्वच्छ रखें।

उन्हें पौष्टिक भोजन, जैसे- फल, हरी सब्जियां, दूध जरूर दें। बच्चों को किसी प्रकार का तनाव होने पर उसे तुरंत सुलझाने की कोशशि करें। यदि बच्चों पर इस समय मानसिक दबाव ज्यादा हो जाएं, तो मनोवैज्ञानिक की सलाह अवश्य लें।

छात्रों के लिए सलाहविद्यार्थी अपने अभिभावकों की अपेक्षाओं को सकारात्मक रूप से देखें। किसी दबाव में न आएं, रूटीन का पालन करें। समय बर्बाद न करें, पढ़ाई पर ध्यान दें। रविीजन करें। कठिनाइयों का डट कर सामना करें। विषय को समझें और कांसेप्ट क्लीयर करें।

परीक्षार्थी जबरदस्ती पढ़ाई न करें, इससे उलझनें बढ़ सकती हैं। लगातार बैठकर पढ़ाई न करें, बीच-बीच में ब्रेक लें। साथ ही, थोड़ा मनोरंजन भी करें। इन सभी चीजों के लिए बच्चों टाइम मैनेजमेंट का सहारा जरूर लें।

मॉर्निग वॉक और एक्सरसाइज जरूर करें, इससे तनाव कम होता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एग्जामिनेशन फोबिया से बचें परीक्षार्थी