DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सरकारी व्यवस्था में सवाल खड़े होते रहते हैं : सीएम

सरकारी व्यवस्था में सवाल खड़े होते रहते हैं : सीएम

रांची। वरीय संवाददाता। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि स्वास्थ्य में राज्य कहां खड़ा है, यह सभी जानते हैं। सरकारी व्यवस्था में सवाल खड़े होते रहते हैं। अभाव भी है। अपोलो ने स्वास्थ्य के क्षेत्र में छाप छोड़ी है। झारखंड जैसे पिछड़े राज्य में सेवा देने के लिए तैयार रहना गौरव की बात है। अस्पताल बन जाने पर हर वर्ग के लोगों को लाभ होगा। इसे बनाने को लेकर कई सवाल खड़े हो रहे हैं।

हालांकि सर्वसम्मति से ही कोई चीज बनती है। सभी की सहमति भी जरूरी है। बेहतर स्वास्थ्य के लिए नर्सिग कॉलेज खोले जाएंगे। राज्य को स्वास्थ्य के क्षेत्र में अग्रणी बनाने के लिए सभी भूमिका निभाएं। लिए गए निर्णय को धरातल पर उतारने की जरूरत है। वह 28 फरवरी को नगर निगम में आयोजित समारोह में बोल रहे थे। उन्होंने घाघरा में निगम के प्रस्तावित 200 बेड के सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल के बनाने और चलाने के लिए अपोलो को पत्र सौंपा।

विवाद नहीं होगा : राजेंद्र स्वास्थ्य मंत्री राजेंद्र सिंह ने कहा कि जमीनदाता से बात हुई है। विवाद नहीं होगा। अपोलो जैसे अस्पताल की झारखंड को जरूरत है। सदर अस्पताल को पीपीपी में शुरू करना है। भाग लेने पर अपोलो को प्राथमिकता दी जाएगी। नर्सिग कॉलेज के लिए रिनपास में 25 एकड़ जमीन दी जा रही है। जल्द ही राज्य में 11 मेडिकल कॉलेज सह अस्पताल हो जाएंगे। पर्यटन मंत्री सुरेश पासवान ने कहा कि अस्पताल बन जाने से राज्य की जनता को लाभ होगा।

उन्हें इलाज के लिए बाहर नहीं जाना होगा। डिप्टी मेयर संजीव विजयवर्गीय ने कहा कि वर्षो से शहर में बेहतर इलाज की जरूरत महसूस की जा रही थी। अब यह पूरा हो जाएगा। बीपीएल को 5 प्रतिशत बेड : सीइओ निगम के सीइओ मनोज कुमार ने कहा कि 30 साल के लीज पर 2.80 एकड़ जमीन दी गई है। एक सौ करोड़ का बजट है। इसके चालू हो जाने पर 0.5 प्रतिशत हिस्सा निगम को मिलेगा। बीपीएल को 5 प्रतिशत बेड मिलेगा।

ओपीडी में 10 फीसदी इलाज होगा। देवकलम अस्पताल को भी निगम अस्पताल दिया गया है। अपोलो के चीफ प्रोजेक्ट ऑफसिरे बिग्रेडियर (रिटा.) आरके चक्रवर्ती ने कहा कि यहां उच्च तकनीक की मशीनें लगाई जाएगी। शहर के लोगों को उच्च दर्जे के इलाज की सुविधा मिलेगी। अस्पताल खुलने से स्थानीय लोगों को रोजगार मिलेगा। व्यवसाय भी विकसित होंगे। राज्य को लाभ होगा। मंत्री ने किया स्वागत मंत्री राजेंद्र सिंह और सुरेश पासवान ने पटना निवासी फिरदौसिया खातुन और शमशीरूल हक का स्वागत किया।

उन्होंने लवारिस बच्ची को गोद लिया था। एक दिन की बच्ची झाड़ी में मिली थी। उसके होठ कटे हुए थे। उसका इलाज डॉ अनंत सिन्हा ने किया। होठों का तीन बार ऑपरेशन हो चुका है। उस बच्ची का नाम आइजा शमां रखा है। बारिश से अव्यवस्था बारिश के कारण समारोह में अवव्यस्था की स्थिति थी। खुले आसमान के नीचे कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। मंच पर पानी टपक रहा था। वह सीधे मंत्री के सिर पर गिर रहा था। पार्षद छाता लेकर बैठे हुए थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सरकारी व्यवस्था में सवाल खड़े होते रहते हैं : सीएम