DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लॉटरी से हुई 61 शराब दुकानों की बंदोबस्ती

जमशेदपुर’ वरीय संवाददाता। वित्तीय वर्ष 2014-15 के लिए पूर्वी सिंहभूम जिले की 165 शराब दुकानों की बंदोबस्ती की प्रक्रिया शुक्रवार को शुरू हुई। पहले दिन 21 ग्रुप में शामिल 61 शराब दुकानें लॉटरी के माध्यम से शुक्रवार को बंदोबस्त की गईं। इनमें 36 विदेशी, 21 देसी और 4 कंपोजिट दुकानें शामिल हैं। इन दुकानों से करीब 2 करोड़ 80 लाख रुपये का मासिक राजस्व मिलेगा।

अब बची 13 ग्रुप की दुकानों की बंदोबस्ती शनिवार को होगी। यह जानकारी एडीसी गणेश कुमार व सहायक उत्पाद आयुक्त राकेश कुमार ने बंदोबस्ती प्रक्रिया संपन्न होने के बाद संयुक्त रूप से दी। उन्होंने बताया कि शेष 23 ग्रुप की बंदोबस्ती के लिए बाद में तिथि घोषित की जाएगी। जिले में 95 विदेशी, 55 देसी और 15 कंपोजिट शराब दुकानों की बंदोबस्ती होनी है। आवेदन शुल्क के रूप में विभाग को लगभग 57 लाख रुपये की आमदनी हुई है। इनमें से कुछ ग्रुप के लिए सिर्फ एक ही आवेदन पड़े थे।

बंदोबस्ती उपायुक्त डॉ. अमिताभ कौशल के नेतृत्व में निकाली गई। इसमें एडीसी गणेश कुमार, सहायक उत्पाद आयुक्त राकेश कुमार व विभागीय पदाधिकारी एवं कर्मचारी शामिल हुए। कदमा के दो ग्रुप के लिए पड़े 97 आवेदनकदमा इलाके की छह शराब दुकानों के लिए कुल 97 आवेदन पड़े थे। एक ग्रुप के लिए 51 जबकि दूसरे के लिए 47 आवेदन डाले गए थे। ये दोनों ग्रुप साकची स्थित ट्रैक्स बार के मालिक योगेन्द्र यादव को मिले हैं। दो आवेदक नहीं पहुंचेबार-बार पुकारे जाने के बाद भी हनुमान प्रसाद व अंकित कुमार सिंह नहीं पहुंचे।

इन्हें सहायक उत्पाद आयुक्त ने टेलीफोन कर कल फिर बुलाया है। इन्होंने मनीफीट और परसुडीह की दुकानों के लिए आवेदन डाले थे। मनीफीट की दुकान के लिए पिछले साल रिकार्ड 141 आवेदन पड़े थे। हॉल में घुसने के बाद बाहर निकालाबंदोबस्ती 11 बजे से होने वाली थी। सभी आवेदक उपायुक्त कार्यालय परिसर में पहुंच भी गए। हालांकि उपायुक्त की व्यस्तता के कारण इसकी प्रक्रिया अपराह्न् डेढ़ बजे शुरू हुई। उपायुक्त जब अपने कार्यालय से बाहर निकले तो परिसर में भारी भीड़ देख नाराज हो गए और सभी को परिसर से बाहर निकालने का आदेश दिया।

इसके कारण सीसीआर डीएसपी जेसिंता केरकेट्टा ने उन सभी को बाहर निकालकर गेट को बंद कर दिया, जो किसी आवेदक के साथ आए थे या जिनकी लॉटरी उस समय नहीं निकाली जाने वाली थी। उपायुक्त ने सभागार में घुसने के बाद सभी आवेदकों को अपना मोबाइल बाहर रखने का आदेश दिया। इसके बाद सभी बाहर मोबाइल रखने निकल गए। फिर उनकी मेटल डिटेक्टर से जांच की गई इसके बाद हॉल में घुसने दिया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लॉटरी से हुई 61 शराब दुकानों की बंदोबस्ती