DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रेमी युगल की ग्रामीणों ने शादी रचाई

डोरंडा प्रतिनिधि। तिलक-दहेज की परंपरा को धत्ता बताते हुए प्रेमी युगल ने शुक्रवार को डोरंडा के बालकेश्वर नाथ मंदिर में विवाह सूत्र में बंध कर इस प्रथा का जोरदार विरोध किया। बताया जाता है कि धनवार प्रखंड क्षेत्र के डोरंडा पांडेयडीह अष्टमा कुमारी उर्फ सोनी पिता खूबलाल राय की शादी को लेकर जमुआ, चितरडीह स्थित बंशीडीह कैलाश राय पिता जागो राय के बीच चार महीनों से चल रही थी। जिसमें लड़का पक्ष द्वारा 70 हजार रुपये दहेज की मांग की गयी।

लड़की पक्ष द्वारा दहेज नहीं दे पाने के कारण रिश्ता स्थापित नहीं हो पाया। इधर शादी की बात चलने पर सोनी और कैलाश के बीच मोबाईल से बातचीत होने लगी थी। वे एक-दूसरे से प्यार करने लगे थे और कैलाश एक-दो बार लड़की से मिलने उसके घर भी आने लगा था।

परिवार द्वारा शादी से इंकार किये जाने के बाद दोनों ने एक-दूसरे से शादी करने की ठान ली और कैलाश गुरूवार को लड़की के घर पहुंचा। इसके बाद परिवारवाले ने स्थानीय मुखिया सहित सामाजिक कार्यकर्ताओं के समक्ष लड़का-लड़की से पूछताछ के बाद शुक्रवार को डोरंडा के बालकेश्वरनाथ मंदिर में विधवित दोनों की शादी करा दी गई।

इस मौके पर दक्षिणी डोरंडा के मुखिया राजेन्द्र प्रसाद वर्णवाल, सामाजिक कार्यकर्ता मनोज राय, जयप्रकाश सिंह, नागेश्वर यादव, गुलाब राय, राम सिंह, सिरमणि राय, नरेश यादव, कुमोद पांडेय, सहदेव पांडेय, सांसद प्रतिनिधि रामदेव सिंह, सुधीर मोदी, विजय राय, गोविन्द पांडेय सहित दर्जनों महिलाएं उपस्थित थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:प्रेमी युगल की ग्रामीणों ने शादी रचाई