DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिहार में महंगी नहीं होगी बिजली

पटना। बिजली दर में प्रस्तावित बढ़ोतरी की खबरों पर ब्रेक लग गया है। पटना समेत पूरे राज्य में 6.50 रुपए के फ्लैट रेट लागू करना का प्रस्ताव खारिज कर दिया गया है। साथ ही हर महीने मीटर रेंट देने की खिचखिच भी नहीं होगी। इसके अलावा घर खाली रहने पर भी बिजली बिल नहीं भरना पड़ेगा। बिहार विद्युत विनियामक आयोग ने शुक्रवार को बिहार स्टेट पावर होल्डिंग कंपनी के बिजली टैरिफ के प्रस्ताव को खारिज कर दिया।

आयोग के फैसले ने राजधानीवासियों को राहत दी है। पटना के लिए दूसरी बड़ी खबर यह है कि चौबीसों घंटे बिजली मिलने की स्थिति में भी प्रीमियम चार्ज नहीं देना पड़ेगा। पटना सहित कई शहरों में 24 घंटे बिजली देने पर मूल बिजली दर से दस फीसदी अधिक वसूलने की तैयारी थी। बिजली कंपनी के प्रस्ताव को इस तर्क के साथ वापस लिया गया कि अब बिजली की उपलब्धता बढ़ी है। इसलिए दस फीसदी प्रीमियम वसूलने की जरूरत नहीं है।

राज्य में फिलहाल बिजली की उपलब्धता 2300-2400 मेगावाट तक है। तीन साल पहले बिजली की उपलब्धता 1300-1400 मेगावाट तक की ही थी। उस समय पटना में 24 घंटे बिजली सप्लाई संभव नहीं थी। घर खाली रहने पर नहीं देना होगा मासिक चार्जअब घर के खाली रहने पर मंथली मिनिमम चार्ज (एमएमसी) नहीं देना पड़ेगा। अब तक लोगों को खाली घर के लिए भी एक किलोवाट के लोड पर कम से कम 40 यूनिट बिजली का बिल भरना पड़ता था। अतिरिक्त प्रति किलोवाट के लोड पर 20 यूनिट लगता था।

बिजली कंपनी ने एक किलोवाट के भार पर 150 यूनिट और उससे अधिक लोड पर अतिरिक्त 50 यूनिट का बिजली बिल भरने का प्रस्ताव दिया था। लेकिन आयोग ने मौजूदा चार्ज को ही खत्म कर दिया है। एक ही बार दीजिए मीटर रेंटउपभोक्ताओं को अब हर महीने मीटर रेंट नहीं देना पड़ेगा।

अगर वे चाहें, तो मीटर के लिए एक ही बार में पूरा भुगतान कर सकते हैं। फिलहाल हर माह सिंगल फेज के मीटर के रेंट 20 रुपए तो तीन फेज के लिए 50 रुपए देना पड़ता है।

पर अब उपभोक्ता मीटर का पूरा भुगतान एक ही बार में कर सकते हैं। अब तक उपभोक्ताओं से 400-500 रुपए के मीटर के लिए हजारों-लाखों रुपए वसूल लिए जाते रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बिहार में महंगी नहीं होगी बिजली