DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भाजपा से आरके सिंह की दावेदारी मानी जा रही तय

आरा। संवाद सूत्र। भाजपा और लोजपा के बीच गठबंधन पर मुहर लग जाने के बाद आरा लोक सभा की राजनीतिक तस्वीर भी साफ होने लगी है। आरा लोक सभा सीट को लेकर दोनों दलों के बीच जिच चली तो थी लेकिन इस पर भी बात बन गयी ।

लोजपा ने आरा में दावेदारी से हाथ खींच लिया है, जिससे भाजपा उम्मीदवार को लेकर स्थिति साफ हो गयी है। भाजपा से पूर्व गृह सचिव आर के सिंह की दावेदारी तय मानी जा रही है। वही लोजपा के दावेदार रामाकिशोर सिंह उर्फ रामा सिंह के वैशाली की सीट पर चुनाव लड़ने की घोषणा के बाद आरा से चुनाव लड़ने की चर्चा पर विराम लग गया। जदयू से सांसद मीना सिंह की दावेदारी को लेकर कोई संशय नहीं है। अब तक मीना सिंह की दावेदारी तय मानी जा रही है।

इधर आर के सिंह के चुनाव लड़ने की घोषणा के बाद राजद से रूठे विधायक राघवेंद्र प्रताप सिंह को ले कर भी कई तरह की चर्चा है। पीपा पुल के शिलान्यास समारोह में नीतीश के कार्यो का गुणगान किये जाने से उनके बीच की नजदीकी सामने आयी है तो राजद के बारे में भी कुछ बोलने से कन्नी कटा रहे हैं। हालांकि आरा से उन्हें भी लोकसभा चुनाव लड़ने का एक प्रबल उम्मीदवार माना जा रहा है, यह बात दीगर है कि पार्टी को ले कर वे अपनी स्थिति साफ नहीं कर रहे हैं।

माले ने अपना प्रत्याशी पहले ही घोषित कर रखा है। माले ने इनौस के प्रदेश अध्यक्ष राजू यादव को आरा से अपना प्रत्याशी बनाया है। एक मात्र राजद के उम्मीदवार को लेकर थोड़ा संशय कायम है। राजद से पूर्व केन्द्रीय मंत्री कांति सिंह का नाम भी काफी चर्चा में है,जो यहां से सांसद भी रह चुकी हैं।

बताया जा रहा है कि इस मामले में पार्टी कुछ अन्य संभावनाओं पर भी विचार कर रही है। राजद कांग्रेस गठबंधन को लेकर कांग्रेस के जिलाध्यक्ष डा. अजय सिंह भी अपनी दावेदारी पेश कर रहे हैं। हालांकि ज्यादा संभावना व्यक्त की जा रही है कि आरा लोक सभा सीट पर राजद की दावेदारी ही पक्की होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भाजपा से आरके सिंह की दावेदारी मानी जा रही तय