DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चुप्पी तोड़ इंसाफ व सम्मान की लड़ाई करेंगी तेज

मुजफ्फरपुर। कार्यालय संवाददाता। हिंसा नहीं- चुप्पी नहीं,सम्मान और इंसाफ चाहिए..वर्षो से चुप रहने वाली महिलाओं ने जब इंसाफ और सम्मान के लिए आवाज उठाई तो महिला सशक्तीकरण की एक नई इबारत लिख गई। मौका था शुक्रवार को ‘उमड़ते 100 करोड़’ कार्यक्रम का जिसमें हर उम्र, हर वर्ग की महिलाओं ने अपने हक के लिए आवाज बुलंद करने का संकल्प लिया।

आम्रपाली ऑडियोटोरियम में ज्योति महिला सामाख्या की ओर से आयोजित इस कार्यक्रम में विभिन्न प्रखंडों से पहुंची सैकड़ो महिलाओं ने न केवल बदलते समय की तस्वीर पेश की बल्कि उनके रास्ते में आने वाली समस्याओं का समाधान भी बताया गया। कार्यक्रम का उद्घाटन करते हुए मुख्य अतिथि राष्ट्रीय महिला सशक्तीकरण मशिन , भारत सरकार कार्यकारी निदेशक रश्मि सिंह ने कहा कि सिर्फ बड़े शहरों में ही नहीं, बल्कि छोटे शहरों और गांवों की महिलाएं भी सशक्त हुईं हैं। अपने हक और सम्मान के लिए इन महिलाओं की जागरुकता यह बताती है कि भले ही कठिनाईयां आए मगर हम रुकेंगे नहीं।

पटना से आयीं महिला सामाख्या की सदस्य सात्वंना, उर्मिला, सुगंधा ने कहा कि अपने सम्मान के लिए महिलाओं को खुद ही आगे आना होगा। जिला समन्वयक पूनम कुमारी ने कहा कि उमड़ते 100 करोड़ महज एक कार्यक्रम नहीं बल्कि यह महिलाओं के हक की आवाज है।

कार्यक्रम में महिलाओं ने नृत्य नाटक के जरिए कई सवालों को भी सामने रखा। मोतीपुर कस्तुरबा गांधी विद्यालय की छात्राओं ने नृत्य नाटिका के जरिए महिला सशक्तीकरण को दिखाया। नारी अदालत कैसे काम करता है, महिलाओं के रोजगार का रास्ता क्या है, इस पर सामाख्या की सदस्य सावित्री ने महिलाओं को जानकारी दी।

सीवान से आई परवित्तर्न नाटय़ मंडली की ओर से बकरी नाटक का मंचन किया गया। इस नाटक के जरिए राजनीति,धर्म आदि व्यवस्था के नाम पर किस तरह आम आदमी पिसता है, इस पर चोट की गई। मंच संचालन भावना मिश्रा ने किया। महिलाओं की समस्याओं के लिए मिली कानूनी सलाहउमड़ते 100 करोड़ कार्यक्रम में विभिन्न प्रखंडों से आई महिलाओं की समस्या पर कानूनी सलाह भी दी गई। घरेलू हिंसा, पति द्वारा दूसरी शादी कर लेने, दहेज के लिए मिल रही प्रताड़ना जैसे मामले ज्यादा आए।

पीड़ित महिलाओं को यह बताया गया कि इसके लिए क्या कानून हैं और वे किस तरह अपने हक के लिए लड़ सकती हैं। अधविक्ताओं की टीम में शामिल राजीव मिश्रा, लता, रूबी,विकास कुमार ने महिलाओं को कानूनी सलाह दी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चुप्पी तोड़ इंसाफ व सम्मान की लड़ाई करेंगी तेज