DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नेताजी! चचरी पुल हिलता है तो कांप जाता है कलेजा

भागलपुर। गिरिजेश। श्रीरामपुर गांव सहित आसपास के सात पंचायतों को जोड़ने वाला पुल 15 साल के बाद भी नहीं बन पाया। जमुनिया नदी के श्रीरामपुर घाट पर बनने वाले इस पुल का शिलान्यास 2000 में तत्कालीन सांसद सुबोध राय ने किया था।

नदी के उस पर रहने वालों को शहर आने के लिए चचरी पुल ही एकमात्र सहारा है। जिसे ग्रामीणों ने खुद अपनी मेहनत से बनाया। पुल के नहीं बनने से लगभग दस हजार की आबादी सीधे-सीधे प्रभावित है। इसपुल से हर दिन हजारों की संख्या में लोग गुजरते हैं। जनप्रतिनिधियों से गांव के लोगों को खासी नाराजगी है। चुनाव के मुद्दे ग्रामीणों ने बैठक आयोजित की है। उनका कहना है कि यदि यहां पक्का पुल नहीं बनता है तो वे वोट का बहिष्कार कर सकते हैं।

ग्रामीणों ने बताया कि हर बार चुनाव में नेता यहां आते हैं, पुल बनाने का वादा करते हैं लेकिन बनता नहीं है। विधायक से लेकर सांसद तक को कहकर थक गए। ग्रामीणों की नाराजगी सभी पार्टियों के नेताओं से है। शहजादपुर, दुधैला पंचायत सहित रन्नूचक, मकंदपुर, मोदीपुर इत्यादि गावों के लिए इस घाट पर बनने वाला पुल बेहद ही जरूरी है। पुल के अभाव में हर साल बरसात में 2-3 लोग अपने प्राण गंवाते हैं। इस साल भी बरसात में सुल्तानगंज के एक मजदूर की डूबने से मौत हो गई।

वह नाव से शहर कमाने आ रहा था। बीच धार में नाव पलट गई थी। एडीआरएफ की टीम तक उसका शव नहीं ढूंढ पाई थी। भागलपुर आने के लिए लोगों का एक मात्र रास्ता होने के कारण काफी मुश्किलों का सामना ग्रामीणों को करना पड़ता है। हर दिन किसान इसी चचरी पुल से खेतों में उपजी सब्जियां बेचने शहर में आते हैं। चचरी पुल खतरनाक है। जब यह हिलता है तो कलेजा कांपने लगता है। ग्रामीण मोटरसाइकिल, सब्जी लदे साइकिल और खुद आने के लिए एक साथ इसे इस्तेमाल करते हैं।

पुल अगर थोड़ी सी सावधानी हटी तो लोग सीधे नीचे नदी में गिर जाएंगे। ग्रामीणों ने हजारों बार नेताओं से गुहार लगाई, लेकिन किसी ने उनकी एक नहीं सुनी। श्रीरामपुर गांव के मनोहर मंडल ने कहा कि नेताओं ने वादे तो किए लेकिन किसी ने पूरा नहीं किया। वरुण शर्मा, उमेश शर्मा, छट्टू मंडल इत्यादि ने बताया कि आने-जाने में काफी दिक्कत होती है। हमलोगों के लिए और कोई दूसरा रास्ता नहीं है। दिनेश राय, ओमप्रकाश राय, उपेंद्र मंडल इत्यादि की भी यही परेशानी है।

पुल के नहीं बनने से लोगों में घोर निराशा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नेताजी! चचरी पुल हिलता है तो कांप जाता है कलेजा