अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वकीलों के प्रदर्शन ने बदला जरदारी का नजरिया

पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के सहअध्यक्ष आसिफ अली जरदारी बर्खास्त जजोो को बहाल करने पर अभी तक भले ही ना नुकुर कर रहे हों लेकिन हाल ही में देश भर के वकीलों के लॉंग मार्च की सफलता ने इस मामले में उन्हें अपना नजरिया बदलने पर मजबूर कर दिया है। स्थानीय अखबार द न्यूज में मंगलवार को प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार सुप्रीम कोर्ट बार कांउसिल के अध्यक्ष एतजाज अहसान के नेतृत्व में लाहौर से इस्लामाबाद तक के इस प्रदर्शन की गूंज न सिर्फ जरदारी के कानों में पंहुची बल्कि राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ भी इस बारे में अपनी भविष्य की रणनीति को लेकर चौकन्ने हो गए हैं। रिपोर्ट के मुताबिक हजारों वकीलों के प्रदर्शन के बाद जरदारी ने अब इस मामले में जनभावनाआें को समझते हुए जजों की बहाली को अपनी पहली वरीयता दी है। पीपीपी सूत्रों के अनुसार इस मामले में जरदारी हाऊस के बदले हुए स्वर पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज के प्रमुख नवाज शरीफ का रुख सही होने की पुष्टि करते हैं। वकीलों के प्रदर्शन से जरदारी यह समझ गए हैं कि अगर जजों की बहाली के मामले पर शरीफ ने सरकार से समर्थन वापस लिया और सरकार के गिरने पर होने यदि मध्यावधि चुनाव हुए तो उसमें जज बहाली ही मुख्य मुद्दा बन जाएगा और पीएमएल एन को पूर्ण बहुमत मिलना बेहद आसान हो जाएगा। नतीजतन कल तक जजों की बहाली संवैधानिक संशोधन के जरिए करने की बात कहने वाले जरदारी ने अब इस नीति से पल्ला झाड़ते हुए संवैधानिक पैकेज को जजों की बहाली से अलग मामले बताते हुए शरीफ के सुर में सुर मिलाने लगे है। पीपीपी के उच्च पदस्थ सूत्रों ने बताया कि जजों की बहाली पर अब बजट के तुरंत बाद संसद में प्रस्ताव पेश किया जाएगा और बहाली का काम निसंदेह संसद के माध्यम से होगा लेकिन इसे संवैधानिक पैकेज से एकदम अलग करके रखा जाएगा। सूत्रों की मानें तो गत शुक्रवार को प्रदर्शन के दौरान वकीलों के उमड़े हुजूम को देखकर जरदारी हाऊस ने भी दबी जुबान से ही सही इसे ऐतिहासिक प्रदर्शन मानने से गुरेज नहीं किया। रिपोर्ट के अनुसार इतना ही नहीं पीपीपी के कुछ नेताआें ने मुशर्रफ और जरदारी विरोधी मार्च के बाद जनता की नब्ज समझते हुए दि न्यूज संवाददाता से स्वयं सपर्क कर पूछा कि क्या भविष्य में इससे भी बड़ा प्रदर्शन संभव है। गौरतलब है कि हाल ही में शरीफ ने विद्रोही तेवर अपनाते हुए कहा था कि अगर जजों की बहाली न हुई तो उनकी पार्टी इससे भी बड़ा लॉंग मार्च का आयोजन करेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: वकीलों के प्रदर्शन ने बदला जरदारी का नजरिया