DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वोकेशनल की नियमित ऑडिट सीए करंगे

झारखंड के यूनिवर्सिटी में चल रहे वोकेशनल कोर्स की अब नियमित ऑडिट करायी जायेगी। इसके लिए प्रोफेशनल चार्टर्ड एकाउंटेंट का सहयोग लेने का निर्देश सरकार ने दिया है।ड्ढr कुलाधिपति सह राज्यपाल भी बार-बार वोकेशनल कोर्स का ऑडिट कराने का निर्देश देते रहे हैं। इसी आलोक में रांची यूनिवर्सिटी ने सभी कॉलेजों को प्रतिमाह फंड का ब्योरा देने का निर्देश दिया है। ऑडिट के लिए प्रक्रिया बनाने का काम एफओ, एफए और कॉलेजों के प्राचार्य संयुक्त रूप से करंगे। उच्च शिक्षा निदेशालय ने तीनों यूनिवर्सिटी को इस संबंध में जरूरी निर्देश दिया है। वोकेशनल कोर्स से प्रतिवर्ष करोड़ों रुपये यूनिवर्सिटी को प्राप्त होते हैं, परंतु अब तक इसकी ऑडिट नहीं करायी गयी है। पूर्व वीसी प्रो एसएस कुशवाहा ने भी इसकी पहल की थी, लेकिन इसका अनुपालन नहीं हो सका।ड्ढr इंटरमीडिएट की परीक्षा के लिए झारखंड एकेडेमिक काउंसिल से मिलनेवाली राशि का एकाउंट-ए से एकाउंट-बी में हस्तांतरण अब प्राचार्यो के आदेश से संभव होगा। प्राचार्य द्वारा राशि की मांग किये जाने पर बैंक द्वारा राशि का हस्तांतरण कर दिया जायेगा। इसके अलावा नगर निगम-पालिका के टैक्स का पैसा प्राचार्य द्वारा बैंक को सूचित किये जाने पर बैंक द्वारा ही निगम-पालिका के संबंधित अधिकारी के नाम से राशि स्थानांतरित कर दी जायेगी। इंटरमीडिएट पंजीकरण, परीक्षा सहित अन्य मदों में एकाउंट-ए से जो भी राशि स्थानांतरित होगी, उसकी जानकारी प्राचार्य नियमित रूप से यूनिवर्सिटी को देंगे। विकास कोष की राशि अब समय सीमा के अंदर कॉलेजों को स्थानांतरित की जायेगी। सीसीडीसी वीसी से अनुमति प्राप्त कर राशि हस्तांतरण की प्रक्रिया निर्धारित समय के अंदर पूरा करेंगे।नौ ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: वोकेशनल की नियमित ऑडिट सीए करंगे