अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इस बार सूबे में खाद की कमी नहीं होगी: नागमणि

सरकार पहले से ही सजग है और राज्य में इस बार खाद की कमी नहीं होगी। यूरिया तो जरूरत से अधिक उपलब्ध है, अप्रैल से आज तक डीएपी की आपूर्ति भी 60 टन की गई जबकि जून तक 65 टन की आवश्यकता होती है। अभी 15 दिन शेष हैं, इस अवधि में जो आपूर्ति होगी उससे डीएपी भी सरप्लस हो जायेगी।ड्ढr ड्ढr कृषि मंत्री नागमणि ने कृषि योजनाओं की समीक्षा के बाद मंगलवार को अपने कार्यालय कक्ष में प्रेस को संबोधित करते हुए उक्त बातें कहीं। उन्होंने कहा कि कालाबाजारियों पर कड़ी नजर रखने का निर्देश अधिकारियों को दिया गया है। बावजूद अगर कहीं शिकायत मिले तो किसान तुरंत अधिकारी को सूचित करं। अगर वहां कार्रवाई नहीं हुई तो बिना विलंब मुख्यालय को इसकी सूचना दें। बीज आपूर्ति करने वाली कंपनियों पर भी नजर रखने को कहा गया है।ड्ढr अगर कहीं से बीज में गड़बड़ी के कारण किसानों को घाटा होने की शिकायत मिली तो उस कंपनी को राज्य में ब्लैकलिस्टेड कर दिया जायेगा। सरकार कृषि यांत्रीकरण के लिए हर प्रखंड को अनुदानित दर पर किसानों को देने के लिए 30 पावर टीलर उपलब्ध करायेगी। नया बाग लगाओ अभियान में किसानों को बेहतर पौधा उपलब्ध कराने के लिए इस बार बंगाल के पौधों पर रोक लगा दी गई। समेकित फसल को बढ़ावा देने के लिए हर प्रखंड के दो किसानों के यहां मॉडल शुरू किया जा रहा है।ड्ढr ड्ढr मुख्यमंत्री त्वरित बीज विस्तार योजना के पहले चरण की अभूतपूर्व सफलता पर अधिकारियों को बधाई देते उन्होंने कहा कि दूसर चरण में विपण पर भी जल्द ही काम शुरू होगा ताकि किसानों को उनके उत्पाद की उचित कीमत मिले। इसके पूर्व समीक्षा बैठक में मंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिया कि वे अधिक किसानों की समस्या सुनें और निराकरण करं। कर्मचारी और अधिकारी बिना भय के काम करं लेकिन हर काम में पारदर्शिता दिखनी चाहिए। बेहतर काम करने वाले पुरस्कृत किये जायेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: इस बार सूबे में खाद की कमी नहीं होगी: नागमणि