अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कोसी-कमला में उफान, तटबंधों को खतरा

मंगलवार को कमला एवं कोसी के उफान से दरभंगा जिले में तबाही जारी रही जबकि अन्य नदियों ने थोड़ी राहत दी है। वाल्मीकिनगर बराज से एक लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया है। दरभंगा जिले के कुशेश्वर स्थान का सड़क संपर्क भंग हो गया है। मधुबनी जिले के झंझारपुर में कमला बलान के जलस्तर में अत्यधिक उछाल से तटबंध मरम्मत की पोल खोल दिया है। बागमती, लखनदेई, गंडक, बूढ़ी गंडक, पसाह व सरिसवा नदियों के जलस्तर में कमी से लोगों ने राहत की सांस ली है।ड्ढr ड्ढr बगहां के ठकराहा प्रखंड के बहेलिया गांव में आज भी कटाव जारी रहा जिससे लोग विस्थापित होते रहे। सीतामढ़ी : बागमती, अधवारा समूह और झीम नदी के जलस्तर में मंगलवार को उतार-चढ़ाव जारी रहा। लेकिन विभाग ने जलस्तर में वृद्धि की संभावना जतायी है। बागमती का जलस्तर सोनाखान में घट रहा है और झीम का सोनबरसा में बढ़ रहा है। कुशेश्वरस्थान में कमला एवं कोसी नदियों के जलस्तर में जारी वृद्धि से कुशेश्वरस्थान-बिरौल मुख्य सड़क में असमा गांव के डायवर्सन पर डेढ़ फीट पानी बहने से आवागमन बंद हो गया है। डायवर्सन के डूबने से ढाई लाख की आबादी का अनुमंडल व जिला मुख्यालय से सड़क संपर्क भंग हो गया। इस मार्ग के मसानखोन, ग्यासपुर में बने डायवर्सन पर पानी का दबाव बना हुआ है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कोसी-कमला में उफान, तटबंधों को खतरा