अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

योगीपुर नालेकी दीवार ध्वस्त

ंकड़बाग समेत राजधानी के तमाम निचले इलाकों से बारिश का पानी निकलने का नाम नहीं ले रहा है। एनबीसीसी द्वारा मरम्मत किए गए योगीपुर नाले की दीवार बहादुरपुर हाउसिंग कॉलोनी संप हाउस के निकट सोमवार की देर रात ध्वस्त हो गई। इसके कारण योगीपुर संप से ड्रेन आउट किया गया पानी पहाड़ी संप हाउस तक नहीं पहुंच रहा है। वहीं डिप्टी मेयर संतोष मेहता ने राजधानी की वर्तमान हालात को बेकाबू बताया है।ड्ढr ड्ढr उन्होंने जलजमाव की समीक्षा के लिए नगर विकास एवं आवास मंत्री भोला सिंह से तत्काल बैठक बुलाने का अनुरोध किया है। उन्होंने जलजमाव के लिए अवैध कब्जे को दोषी करार दिया है। नाले पर बने पक्के मकान और झोपड़ियों को सख्ती से तोड़े बिना जलजमाव से छुटकारा मिलना संभव नहीं है। योगीपुर नाले की दीवार ध्वस्त हो जाने के कारण बहादुरपुर हाउसिंग कॉलोनी सेक्टर एक से आठ, चित्रगुप्तनगर, विजय नगर, कांटी फैक्ट्री रोड व संजय गांधी नगर आदि समेत कई मुहल्लों में मल-मूत्र युक्त पानी फैल गया है। स्थिति बद से बदतर हो गई है। पार्षद जवाहर प्रसाद व पूनम सिंह ने सार निर्माण कार्य को बंद कर योगीपुर से पहाड़ी तक के मुख्य चैनल को ठीक करने की मांग की है। उधर पार्षद विनय कुमार पप्पू, अशोक कुमार, मुकेश कुमार, आभा लता, मुमताज जहां, पिंकी यादव व सुनील कुमार ने जलजमाव से मुक्ित दिलाने में निगम को फेल करार दिया। श्रीकृष्णानगर, चांदमारी रोड, जवाहर कॉलोनी, इंदिरानगर, संजयनगर, पोस्टल पार्क, विनोवानगर, डिफेंस कॉलोनी, हनुमाननगर, शालिमार से मठ तक मुख्य सड़क पर, चांदपुरबेला चमरटोली, जक्कनपुर आदि मुहल्लों में पानी जमा है। इन इलाकों में रहने वाले पिछले चार दिनों से नारकीय जीवन जीने पर मजबूर हैं। योगीपुर संप हाउस के पास एनबीसीसी द्वारा ध्वस्त किये गये भूगर्भ नाले को अब तक ठीक नहीं किया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: योगीपुर नालेकी दीवार ध्वस्त