अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आखिरी दिन तक करार के लिए कटिबद्ध : यूएस

बुश प्रशासन ने वादा किया है कि अगर भारत सरकार 20 जनवरी 200े पहले परमाणु सहयोग समझौते को मंजूरी दे दे तो वह इसे अमेरिकी कांग्रेस से भी मंजूरी दिलाने का हरसंभव प्रयास करेगा। बीस जनवरी 200बुश प्रशासन का आखिरी दिन होगा। अगले दिन नए राष्ट्रपति का प्रशासन कार्यभार ग्रहण करेगा। अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता टॉम कैसी ने कहा कि अंतिम समय सीमा 20 जनवरी है, उस दिन तक हम इस समझौते के लिए समर्थन जुटाने के लिए प्रयास करते रहेंगे। हम भारत सरकार को भी प्रोत्साहित करना भी जारी रखेंगे और अगर यह इस दौरान भारत में मंजूर हो जाता है, चाहे आज हो कल हो या 1जनवरी तो हम इसे कांग्रेस से पारित कराने के लिए जोर लगा देंगे। ड्ढr उन्होंने कहा कि बुश प्रशासन को इस बात की पूरी आशा है कि अमेरिका में अगली सरकार जिस किसी की भी आए, वह इस समझौते को अमेरिका के हित में ही देखेगी तथा इसे अमल में लाने की दिशा में बढ़ना चाहेगी। केसी ने कहा कि वास्तव में हम सोचते हैं कि भारत के साथ असैन्य परमाणु सहयोग समझौता दोनों देशों के हितों के अनुरूप है। लेकिन जैसा कि आप जानते हैं, इसमें बाधा यह है कि भारत सरकार कुछ घरेलू राजनीतिक मुद्दों में उलझी है। आगे बढ़ने से पहले इन्हें सुलझाने की जरूरत है। प्रवक्ता ने कहा कि मेरा मानना है कि हम अपने-अपने कैलेंडर निकाल कर चिन्हित कर सकते हैं कि आज से 20 जनवरी तक कांग्रेस का सत्र कितने दिन और चलना है तथा एक बिन्दु पर समझौते पर पहुंचने के लिए कितना वक्त लगेगा। फिर उसी के अनुरूप आगे बढ़ सकते हैं और कांग्रेस में मतदान के जरिए इसे पारित करा सकते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: आखिरी दिन तक करार के लिए कटिबद्ध : यूएस