DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बातें तो बहुत हुईं, आओ कुछ कर दिखाओ

साथी हाथ बढ़ाना, एक अकेला थकोाएगा, मिलकर हाथ बढ़ाना। इस तराने में छिपा संदेश एक बार फिर मौाू है। आदि गंगा-गोमती रक्षा के लिए पुकार रही है। सफाई अभियान शुरू हुए चार दिन बाद भी नगर निगम को छोड़ बाकी सभी खामोश हैं।ड्ढr कुड़ियाघाट से लेकर गांधी सेतु तक नदी में फैलीोलकुंभी केोाल को हटाने के लिए 250 मादूर रोानाोूझ रहे हैं। उनके सामने लक्ष्य बड़ा है मगर दिन गिनती के हैं। उन्हें यह नहीं समझ आ रहा है कि वे 30ोून तक यह काम कैसे पूरा कर पाएँगे। कुड़ियाघाट से गऊघाट पंपिंग स्टेशन, शहीद स्मारक से डालीगां पुल, निशातगां से गोमती बैराा और ौंसाकुंड से लेकर गांधी सेतु तक के हिस्से में नदी सेोलकुंभी व काई को हटाने का काम होना है।ड्ढr फिलहाल शहीद स्मारक से डालीगां पुल तक के हिस्से को छोड़कर बाकी सभीोगह परोलकुंभी को हटाने का कामोारी है।ड्ढr नगर निगम के सुपरवाक्षर अशोक गोयल ने बताया कि कुड़ियाघाट से पक्का पुल तक के क्षेत्र में अब तक आधा हिस्सा ही साफ हो सका है। रोाना 50 मिनी ट्रकोलकुंभी निकालीोा रही है।ोलकुंभी निकालने के बाद ही पानी नदी की मुख्य धारा में मिलेगा। 2002 के बाद से नदी को साफ करने का प्रयास एक बार फिर सरकारी कंधों पर टिका है।ड्ढr ानता हाथ बढ़ाए तो हम देंगे पैसा : पेा 14

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बातें तो बहुत हुईं, आओ कुछ कर दिखाओ