DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लौह नगरी पर बारिश का कहर

पिछले 48 घंटे से हो रही वर्षा से सम्पूर्ण झारखंड बेहाल है। आधा दर्जन से अधिक पुलिया व चेकडैम बह गये हैं। कई पुलों के ऊपर पानी बह रहा है। सर्वाधिक तबाही जमशेदपुर में हुई है। स्वर्णरखा और खरकई नदी की उफान ने वहां जमकर कहर बरपाया है। स्थिति की भयावहता को देखते हुए सेना को सतर्क कर दिया गया है। जमशेदपुर और आदित्यपुर ने 35 साल बाद कुदरत का ऐसा कहर देखा। तीन दिन से लगातार जारी बारिश और उड़ीसा के बैंकबिल डैम के सभी फाटक खोल दिये जाने के कारण खरकई नदी ऐसी उफनी कि जमशेदपुर और आदित्यपुर के हाारों परिवारों को अपना घरबार छोड़ कर सुरक्षित स्थानों पर शरण लेने पर मजबूर होना पड़ा।ड्ढr ड्ढr आदित्यपुर गैस गोदाम इलाके में हेलीकॉप्टर से बचाने के प्रयास में रस्सी छूट जाने के कारण एक व्यक्ित खरकई की तेज धार में बह गया। पूरा आदित्यपुर और औद्योगिक क्षेत्र तबाह हो गया है जबकि आधा जमशेदपुर शहर जलमग्न है। पांच हाार से ज्यादा घरों में पानी घुस गया है। 20 हाार से ज्यादा लोगों को घरबार छोड़ने को विवश होना पड़ा है। शहर के एक बड़े हिस्से में राहत और बचाव कार्य के लिए सेना को लगाया गया है। करीब 30 नौकाओं को भी राहत और बचाव कार्य में लगाया गया है। सिसई के पास हाइवे का डायवर्सन बह जाने से गुमला का रांची से सड़क सम्पर्क भंग हो गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: लौह नगरी पर बारिश का कहर