DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जमशेदपुर में कहर, सेना जुटी

पिछले 48 घंटे से हो रही वर्षा से झारखंड बेहाल है। दर्जन भर से ज्यादा पुलिया व चेकडैम बह गये हैं। कई पुलों के ऊपर पानी बह रहा है। सर्वाधिक तबाह जमशेदपुर है। वहां स्वर्णरखा और खरकई नदी की उफान ने लौह नगरी में कहर ढाया है। राजधानी रांची में भी लगातार बारिश से निचले इलाकों में पानी भर गया है और कई घर भी पानी से घिर गये हैं।ड्ढr इस बीच सीएम मधु कोड़ा ने कहा है कि उड़ीसा सरकार ने बिना पूर्व सूचना के डैम का पानी खोल दिया है, इस वजह से जमशेदपुर में बाढ़ आ गयी है। जमशेदपुर और आदित्यपुर ने 35 साल बाद कुदरत का ऐसा कहर देखा। यहां पर हाारों परिवारों को अपना घरबार छोड़ कर सुरक्षित स्थानों पर शरण लेने पर मजबूर होना पड़ा। आदित्यपुर गैस गोदाम इलाके में हेलीकॉप्टर से बचाने के प्रयास में रस्सी छूट जाने के कारण एक व्यक्ित खरकई की तेज धार में बह गया। उसका नाम सौरभ सिंह बताया गया है। पूरा आदित्यपुर और औद्योगिक क्षेत्र तबाह हो गया है, जबकि आधा जमशेदपुर शहर जलमग्न है। पांच हाार से ज्यादा घरों में पानी घुस गया है। 20 हाार से ज्यादा लोगों को घरबार छोड़ने को विवश होना पड़ा है। आदित्यपुर में नदी किनार स्थित इलाकों के दर्जनों घरों में गुरुवार की रात तक लोग फंसे हुए थे। राहत और बचाव कार्य के लिए सेना को लगाया गया है। बचाव के लिए हेलीकॉप्टर की भी मदद ली जा रही है। हालात भयावह हैं। करीब 30 नौकाओं को भी राहत और बचाव कार्य में लगाया गया है। राहत और बचाव कार्यो पर निगरानी रखने के लिए जमशेदपुर डीसी ऑफिस को कंट्रोल रूप बनाया गया है। इधर सिसई के पास हाइवे का डायवर्सन बह जाने से गुमला का रांची से सड़क संपर्क भंग हो गया है। टाटा-ागन्नाथपुर-नोआमुंडी मार्ग के साथ कई अन्य प्रमुख मार्गो पर जल जमाव के कारण सड़क यातायात पूरी तरह ठप है। भारी वाहनों की लंबी कतार लगी है। टाटानगर रलवे स्टेशन से कुछ ही दूरी पर रल पटरी के नीचे मिट्टी धंस जाने के कारण कई रल गाड़ियों और मालगाड़ियों को जहां-तहां रोक दिया गया है। लगातार हो रही मूसलाधार वर्षा से पटरी की मरम्मत के कार्य में भी कठिनाई हो रही है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: जमशेदपुर में कहर, सेना जुटी