अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

और एक दर्जन बीइइओ नपे

दक्षिणी छोटानागपुर और कोल्हान प्रमंडल की बुधवार को देर रात तक चली समीक्षा बैठक में और एक दर्जन बीइइओ पर कार्रवाई सुनिश्चित की गयी। कार्य में लापरवाही पर शिक्षा मंत्री बंधु तिर्की ने फटकार लगायी। कहा कि शिक्षा का स्तर सुधारने में पूरा महकमा लगा है। लेकिन बीइइओ इतने निकम्मे हो गये हैं कि कुछ करना ही नहीं चाहते हैं।मंत्री ने कहा कि शिक्षा व्यवस्था का दारोमदार बीइइओ पर है। गलत रिपोर्ट देने से पूरी व्यवस्था ध्वस्त हो जायेगी। इस कारण रिपोर्ट के साथ शपथ पत्र में यह लिखना होगा कि अगर रिपोर्ट गलत हुई तो बर्खास्त कर दिया जाये। कार्य में शिथिलता के कारण रांची एक और दो के बीइइओ को हटाने का निर्देश दिया गया। पालकोट के बीइइओ का वेतन बंद कर सर्विस बुक में रड मार्क करने की बात कही गयी। समीक्षा में पाया गया कि सिमडेगा में एक रिटायर टीचर को डिस्ट्रीब्यूटर ने किताब बांटने का ठेका दिया है। मंत्री ने इस मामले की जांच कर कार्रवाई का निर्देश दिया। कस्तूरबा गांधी स्कूल के भवन का निर्माण कार्य 18 जुलाई तक पूरा नहीं होने पर संबंधित बीइइओ नपेंगे। इसमें शिक्षा सचिव जेबी तुबिद, निदेशक पीसी मिश्र समेत अन्य उपस्थित थे।ड्ढr कॉपी सार्वजनिक करने पर चर्चाड्ढr झारखंड एकेडमिक कौंसिल परीक्षा समिति की बैठक में मैट्रिक-इंटरमीडिएट की कॉपी सार्वजनिक करने पर चर्चा की गयी। सदस्यों ने अपने विचार रखे। इस संबंध में कोई ठोस निर्णय नहीं हो पाया। बैठक में प्राइवेट छात्रों पर अंकुश लगाने पर भी चर्चा हुई। हिन्दुस्तान ने 17 जून को टॉपरों की कॉपी सार्वजनिक करने संबंधी एक खबर प्रकाशित की थी। इसके बाद कौंसिल ने बुधवार को आपात बैठक बुलायी थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: और एक दर्जन बीइइओ नपे