अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कल आत्मदाह करंगे अनौपचारिक शिक्षाकर्मी

राज्य के अनौपचारिक शिक्षा अनुदेशकों ने 20 जून को शिबू सोरन के मोरहाबादी स्थित आवास के समक्ष आत्मदाह की धमकी दी है। वह 16 जून से श्री सोरन के आवास के सामने धरना पर बैठे हैं। झारखंड राज्य अनौपचारिक शिक्षा अनुदेशक संघ के अध्यक्ष मनोज कुमार तिवारी का कहना है कि प्रथम चरण में 22 लोग आत्मदाह करंगे। आत्मदाह करने वालों की सूची जिला प्रशासन और शिक्षा मंत्री को मुहैया करा दी गयी है।ड्ढr तिवारी ने कहा कि केंद्र प्रायोजित योजना के तहत 1से 2001 तक सभी कार्यरत थे। योजना में स्पष्ट उल्लेख था कि योजना की समाप्ति के बाद भी उनकी छंटनी नहीं की जायेगी। किसी दूसर विभाग में उन्हें समायोजित कर दिया जायेगा। इसके बावजूद 2001 में उनकी छंटनी कर दी गयी। तब से लेकर आज तक वह आंदोलनरत हैं। शिक्षा मंत्री ने कई बार आश्वासन दिया, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की। आत्मदाह की धमकी को देखते हुए जिला प्रशासन ने धरना स्थल पर पुलिसबल और मजिस्ट्रेट तैनात कर दिया है। वज्र वाहन और अग्निशमन वाहन को भी तैयार रखा गया है।ड्ढr क्या है कोर्ट का निर्देशड्ढr बिहार राज्य अनौचारिक शिक्षा अनुदेशक की रिट याचिका को झारखंड हाइकोर्ट ने 20.11.2000 को निष्पादित कर दिया था। न्यायाधीश न्यायमूर्ति एसएन मिश्रा की अदालत ने प्रार्थियों को संबंधित विभााग के पास अभ्यावेदन देने को कहा था। विभाग को छह सप्ताह के अंदर अभ्यावेदन पर दस्तावेजों के अनुकूल विचार कर निर्णय लेने और निर्णय से प्रार्थियों को अवगत कराने का निर्देश दिया था।ड्ढr शिक्षा मंत्री देखें : शिबूड्ढr झामुमो अध्यक्ष शिबू सोरन ने अनौपचारिक शिक्षा अनुदेशकों की मांग पर 18 जून को राज्य के शिक्षा मंत्री बंधु तिर्की से बात की। साथ ही धरना पर बैठे लोगों को बुलाकर बातचीत करने का भी सुझाव दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कल आत्मदाह करंगे अनौपचारिक शिक्षाकर्मी