DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुझ पर महाभियोग लाना सांसदों कचचा हक

पाकिस्तान के राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ ने कहा है कि राष्ट्रपति के खिलाफ महाभियोग चलाना सांसदों का अधिकार है और अगर वे जरूरी समझें तो उन्हें ऐसा करने से कोई नहीं रोक सकता। मुशर्रफ ने अखबारों के संपादकों और स्तंभकारों से खास बातचीत में यह बात कही। उन्होंनें कहा, ‘अगर मेरे खिलाफ संसद में महाभियोग चलाया जाता है तो यह सांसदों का अधिकार है।’ गत वर्ष तीन नवंबर को लगाए गए आपातकाल के अपने फैसले को सही ठहराते हुए उन्होंने कहा कि अगर उन्होंने यह निर्णय न किया होता तो आज मुल्क में जम्हूरियत बहाल न हो पाती। उन्होंने कहा, ‘मेरे मन में किसी के प्रति कोई विद्वेष या मलाल नहीं है।’ राष्ट्रपति ने कहा कि उस समय देश नाजुक हालात से गुजर रहा था और इससे निपटने के लिए उन्होंने अपने संवैधानिक दायित्व का निर्वाह किया। आतंकवाद और चरमपंथ के बारे में उन्होंने कहा कि वह राष्ट्रीय हितों के साथ समझौता नहीं कर सकते और इसी नियत से उन्होंने सख्त कदम उठाए थे। उन्होंने देश की आर्थिक रूप से माली हालत का ठीकरा अपने ही सिपहसालार पूर्व प्रधानमंत्री शौकत अजीज से सिर पर फोड़ो हुए उन्हें अपना दोष कबूलते हुए स्वदेश वापस लौटने की नसीहत दी है। देश में नई सरकार के गठन से पहले अजीज के कामों की जमकर तारीफ करने वाले मुशर्रफ ने पैंतरा बदलते हुए आर्थिक दुर्दशा का दोष पूर्व सरकार पर मढ़ दिया। उन्होंने कहा कि वह अजीज से तीन बार कह चुके हैं कि उन्हें पाकिस्तान आकर उनकी सरकार की आर्थिक नीतियों पर हो रही आलोचनाओं का सामना करना चाहिए। मुशर्रफ ने कहा कि अजीज ने उनकी बात मानने से यह कहते हुए इंकार कर दिया कि पाकिस्तान में उनकी जिंदगी महफूज नहीं है। उन्होंने कहा कि अजीज को लगता है कि सरकार उन्हें लाल मस्जिद मामले में आरोपी बनाना चाहती है और उनके लौटते ही उन पर तमाम मुकदमे लादकर जेल में डाल दिया जाएगा। राष्ट्रपति ने कहा, ‘मेरा मानना है कि अजीज को आरोपों से इस तरह नहीं भागना चाहिए,बल्कि उन्हें अल्लाह पर भरोसा करते हुए अपना बचाव करना चाहिए। मुशर्रफ ने कहा कि उन्हें नहीं लगता कि अजीज की सुरक्षा को लेकर कोई खतरा है इसलिए उनकी वापसी में कोई हर्ज नहीं है।’

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मुझ पर महाभियोग लाना सांसदों कचचा हक