अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तंबाकू छोड़ने के लिए इच्छाशक्ित की जरूरत

सीएमपीडीआइ में वार अगेंस्ट टोबैको का अवेयरनेस प्रोग्राम स्वर्णरखा भवन में आयोजित किया गया। प्रोग्राम में अपोलो हॉस्पीटल एजुकेशनल एंड रिसर्च फाउंडेशन हैदराबाद के राजेश शर्मा ने कहा कि भारत में 12 करोड़ लोग तंबाकू का सेवन करते हैं। वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाक्षेशन की चेतावनी है कि देश में वर्ष 2010 तक 10 लाख लोग तंबाकू के सेवन से मरंगे। झारखंड में अन्य राज्यों की तरह क्िवक स्मॉकिंग क्िलनिक नहीं है। राज्य में इसकी जरूरत है। सरकार को तंबाकू के सेवन करने वाले लोगों के लिए ठोस निर्णय लेने होंगे। राजेश शर्मा ने कहा कि पूर विश्व में 50 लाख लोग तंबाकू के सेवन से मौत के मुंह में चले जाते हैं। उन्होंने कहा कि जो लोग तंबाकू छोड़ना चाहते हैं। उन्हें दृढ़ इच्छाशक्ित की जरूरत है। तंबाकू छोड़ने के बाद उन्हें बेचैनी और मानसिक दबाब का सामना करना पड़ सकता है। लेकिन मौत को गले लगाना कहां तक जायज है। कार्यक्रम में एके सिंह, वीके राय कंचन सिन्हा, एस एन भट्ट और आशीष वर्मा मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: तंबाकू छोड़ने के लिए इच्छाशक्ित की जरूरत