अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भाजपाइयों ने ही खोली सरकारी काम की पोल

हीं कुछ नहीं हो रहा है मोदी जी। कुछ कीािए। आपने पिछले श्रावणी मेला में ही कहा था कि अकबरपुर बाजार से किरणपुर मोड़ तक सड़क बनाने काम एक सप्ताह में शुरू हो जाएगा। मगर आजतक नहीं हुआ। पहली बारिश में ही तीन दिन से सड़क बंद हो गई है। मानिकपुर के बिमल भादुड़िया के बाद एक दूसर भाजपाई ने कहा शाहकुंड से असरगंज तक रोड़ कट जाने से आवागमन ठप है। तीसर समूह ने कहा शाहकुंड-अकबरनगर में पचरुखी के पास सड़क 100 किमी ढाल कर का छोड़ दी गई है। अनुज सिंह का कहना था कि बडुआ बांध में घटिया काम हो रहा है।ड्ढr ड्ढr श्रावणी मेले की तैयारी समीक्षा के लिए भागलपुर पहुंचे उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के सामने सर्किट हाउस में जमा भाजपा कार्यकर्ताओं ने समस्याओं की बौछार कर दी। कहा- कहीं कोई सुन नहीं रहा है। एक कार्यकर्ता चुप नहीं हो रहा था कि दूसरा शुरू हो जाता था। मोदी धर्यपूर्वक मौन रहकर 40 मिनट तक सबकुछ सुनते रहे। केवल एक बार पूछा कि यहां कोई प्रेस वाला तो नहीं है। सुल्तानगंज से बड़ी संख्या में उपमुख्यमंत्री से मिलने पहुंचे भाजपाई कह रहे थे कि सांसद रहते मोदी जी ने वहां कई काम करवाए लेकिन अभी हालत खराब है। शिकायतों का सिलसिला समीक्षा बैठक में भी जारी रहा।ड्ढr ड्ढr कमिश्नर अखिलेश्वर गिरि ने यह सवाल उठाया हर विभाग में पैसे ही नहीं है। कैसे काम होगा? राशि की मांग ऊपर नहीं सुनी जा रही। जिस फंड का डायवर्सन करके काम हुआ वह भी नहीं मिला। उन्होंने उपमुख्यमंत्री से अर्ज की कि सरकार कृपा कर। राज्य स्तरीय बैठक बुलाकर फंड दिलाएं। हम अच्छा रिाल्ट देंगे। कमिश्नर जब बोल रहे थे तो मोदी ने उन्हें चुप रहने का इशारा किया। सिविल सर्जन प्रतिमा मोदी भी बोलीं हम पहले के फंड से काम चला रहे हैं। इस बार आठ लाख का डिमांड भेजा गया है। सब विभागों के अधिकारियों का यही रोना था, बजट भेजा गया है लेकिन राशि नहीं मिली है। मोदी गंभीर होकर सब नोट कर रहे थे। बैठक के बाद एक अधिकारी का दर्द उभरा।ड्ढr ड्ढr कहते हैं-सुइया पहाड़ और जंगल में पेट्रोलिंग करो? दो साल से डीाल, पेट्रोल का एक पैसा नहीं मिला है। कोई पंप वाला उधार देने को तैयार नहीं। कहां से कैसे लाएं खर्चा। कैसे करं पेट्रोलिंग? बैठक में यह बात सामने आई कि पेयजल स्त्रोत के अभाव में गोरयारी धर्मशाला में कांवरियों को नदी का पानी पीना पड़ता है।ड्ढr सुल्तानगंज नगर पंचायत के कार्यपालक पदाधिकारी से कमिश्नर ने पूछा कि गंगा घाट को सुविधा जनक बनाने और महिलाओं के कपड़ा बदलने के स्थान के लिए क्या व्यवस्था हो रही है तो वे कोई जवाब नहीं दे सके। बाद में पत्रकारों के सवाल पर उपमुख्यमंत्री ने बताया कि मेले का बजट गया है। शीघ्र ही राशि जारी होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: भाजपाइयों ने ही खोली सरकारी काम की पोल