अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डील पर वाम का अल्टीमेटम: करार या सरकार

भारत—अमेरिका असैन्य परमाणु समझौत का लकर छिड़ी आर—पार की लड़ाई मं वामदलां न एक बार फिर मार्चा खाल दिया है। माकपा नता सीताराम यचुरी न गुरुवार को चतावनी दत हुए कहा है कि यदि मनमोहन सरकार करार पर आग बढ़ी ता वामदल समर्थन वापस ल लंग। दूसरी ओर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने लेफ्ट की धमकियों की परवाह न करते हुए करार पर आगे बढ़ने का मन बना लिया है।ड्ढr ड्ढr गुरुवार की देर शाम विदेशमंत्री प्रणव मुखर्जी ने प्रधानमंत्री को इस मुद्दे पर घटक दलों और वामदलों से हुई बातचीत की जानकारी दी। हालांकि कांग्रेस वामदलों की समर्थन वापसी की धमकी को देखते हुए अभी दुविधा में है। वैसे यूपीए के सभी प्रमुख घटकों ने डील पर सरकर का समर्थन किया है। रेल मंत्री लालू प्रसाद न तो करार का दश हित मं करार दिया है। उन्हांन कहा कि करार दश क विकास क लिए है और यदि काई इसका विराध करता है, ता वह करार का नहीं बल्कि विकास का विराधी है। लोजपा अध्यक्ष रामविलास पासवान ने भी करार का समर्थन किया है। उधर येचुरी ने कहा कि पालित ब्यूरा न उन्हं करार पर फैसला करन का पूरा अधिकार दिया है और वा सरकार स समर्थन वापसी का एलान भी कर सकत हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: डील पर वाम का अल्टीमेटम: करार या सरकार