अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बस से कुचला अधेड़ छटपटाता रहा, मौत

सॉरी पटना। .. दिन-मंगलवार। समय-शाम 5.30 बजे। स्थान - डाकबंगला चौराहा। सड़क पर छटपटाता लहूलुहान अधेड़। आसपास खड़े सैकड़ों लोग पर सभी तमाशबीन बने रहे। सड़क पर मची अफरातफरी के बीच मानवता तार-तार होती रही। पथ परिवहन निगम की बेलगाम बस ने सड़क पार कर रहे अधेड़ व्यवसायी को कुचल दिया था। वह मरणासन्न अवस्था में करीब 20 मिनट तक शहर के बीचोंबीच तड़पता रहा - जीवन और मौत से जूझता रहा। पर, मूकदर्शक बनी भीड़ की संवेदनाएं मर गईं थीं। किसी ने जरूरी नहीं समझा कि इस निरीह को उठा कर अस्पताल पहुंचाएं और जिंदगी बचाएं। अंतत: ड्यूटी पर तैनात ट्रैफिक पुलिस के सिपाही प्रम कुमार को दया आई। उसने एक टेम्पो से घायल को इलाज के लिए पीएमसीएच भेजा। हालांकि तब तक बहुत देर हो चुकी थी और लोगों की काहिली से अधेड़ ने रास्ते में ही दम तोड़ दिया। दुर्घटना के कारण करीब आधे घंटे तक डाकबंगला चौराहा पर जाम लगा रहा। बाद में मृतक की पहचान आसनसोल निवासी व्यवसायी सुलेमान के रूप में की गई।ड्ढr ड्ढr घटना उस समय हुई जब व्यवसायी पश्चिम से पूर्व की ओर सड़क पार करने की कोशिश कर रहे थे। पैर में घाव के कारण वह ठीक से चल नहीं पा रहे थे। इसी बीच ट्रैफिक सिपाही ने गांधी मैदान की ओर से आने वाले वाहनों को आगे जाने का इशारा दे दिया। तभी पटना से मुजफ्फरपुर जा रही यात्रियों से भरी राजबस ने उन्हें कुचल डाला। देखते ही कई सिपाही उस ओर दौड़े लेकिन चालक बस से कूद कर फरार हो गया। सूचना पाने के बाद ट्रैफिक और पटना पुलिस के वरीय पदाधिकारी घटनास्थल पर पहुंचे और जाम में फंसी गाड़ियों व वहां जुटी भीड़ को क्िलयर कराया। बाद में सुलेमान के पास से मिले टेलीफोन नंबर पर जब यातायात पुलिस के अधिकारियों ने संपर्क किया तो पता चला कि सुलेमान कुछ दिन पूर्व आसनसोल से सासाराम किसी रिश्तेदार के यहां गए थे। वापसी में पटना कुछ काम होने की वजह से आये थे। इधर बांकीपुर डीपो के प्रमंडलीय प्रबंधक सुरन्द्र प्रसाद ने बताया कि मृतक के परिानों को निगम 50 हाार रुपये का बीमा क्लेम देगी। इसके अलावा जो भी विभागीय सहायता के प्रावधान होंगे उसे भी दिया जाएगा। मंगलवार को दोपहर में भी इस चौराहे पर एसएसबी के वाहन और एक अन्य वाहन में टक्कर के बाद विवाद और अफरातफरी मची थी जिसे पुलिस हस्तक्षेप के बाद सुलझा लिया गया था। बहरहाल सुलेमान के परिानों के इंतजार में पुलिस ने शव को सुरक्षित रख दिया है। बस ने सिनेमा हॉल कर्मचारी को रौंदाड्ढr पटना (सं.सू.)। सोमवार की देर रात एक अनियंत्रित ट्रक ने उमा सिनेमा में कार्यरत 55 वर्षीय महेन्द्र प्रसाद को उमा सिनेमा के पास कुचल डाला। घटना रात को 10.30 बजे तब हुई जब महेन्द्र ड्यूटी समाप्त कर लौट रहे थे ।ड्ढr जसी ही इस घटना की जानकारी हॉल के कर्मचारियों को मिली वे तुरंत घटनास्थल पर पहुंच गए। सभी कर्मचारियों समेत मैनेजर ने महेन्द्र को पीएमसीएच में भर्ती कराया जहां इलाज के दौरान सुबह तीन बजे उसकी मौत हो गयी। कर्मचारियों ने बताया कि प्रसाद बुरी तरह से घायल हो गए थे। बीएम दास निवासी महेन्द्र प्रसाद का एक ही बेटा है पंका जो अभी मुंबई में रहता है। स्थानीय लोगों को इस घटना की जसे ही जानकारी मिली वे सुबह से पीएमसीएच की दौड़ लगाने लगे। घर में कोई लड़का नहीं होने की वजह से सभी काम स्थानीय लोग कर रहे थे। घटना से आहत उनकी पत्नी शांति देवी व पतोहू का बुरा हाल था। उनकी मां ने बताया कि पूरे परिवार के भरण-पोषण की जिम्मेदारी महेन्द्र के कंधे पर ही थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बस से कुचला अधेड़ छटपटाता रहा, मौत