DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कारतूस कांड: आरोप पेश, नहीं हुई सुनवाई

रामपुर। निज संवाददाता। सूबे के सबसे बड़े कारतूस कांड में फंसे आरोपियों को कड़ी सुरक्षा के बीच कोर्ट में पेश किया गया। हालांकि जज के न होने के कारण सुनवाई टल गई। अब इस मामले की सुनवाई दस मार्च को होगी। 29 अप्रैल 2010 को एसटीएफ ने सूबे के सबसे बड़े कारतूस कांड का खुलासा किया था।

टीम ने मास्टरमाइंड यशोदानंदन समेत सीआरपीएफ ग्रुप सेंटर में तैनात आरमोरर विनेश और विनोद कुमार को गिरफ्तार कर लिया था। बाद में मास्टरमाइंड यशोदानंदन की डायरी के आधार पर मुरादाबाद, बरेली, प्रतापगढ़, बनारस, बिजनौर, झांसी, कानपुर और लखनऊ समेत कई जिलों में दबशि देकर सिविलियन और खाकी वालों को गिरफ्तार किया था।

पूछताछ में यह खुलासा हुआ था कि कारतूसों की सप्लाई नक्सलियों तक होती है। इस मामले की सुनवाई स्थानीय कोर्ट में हो रही है। मंगलवार को प्रदेश की विभिन्न जेलों में बंद आरोपियों को कड़ी सुरक्षा के बीच कोर्ट में पेश किया गया। हालांकि जज न होने के कारण सुनवाई टल गई। इस मामले की सुनवाई अब दस मार्च को होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कारतूस कांड: आरोप पेश, नहीं हुई सुनवाई