DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कृषि पुरस्कार का अकेले श्रेय नहीं ले सकते सीएम :

पटना। हिन्दुस्तान ब्यूरो। भाजपा विधानमंडल दल के नेता सुशील कुमार मोदी ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कृषि कर्मण पुरस्कार का श्रेय अकेले नहीं ले सकते। उन्होंने कहा कि जिस वर्ष 2012-13 की अवधि के लिए राज्य को यह पुरस्कार मिला है, उस समय सत्ता में भाजपा भी साझीदार थी। इसलिए कृषि प्रगति में हमारा भी योगदान है।

पत्रकारों से बातचीत में कहा कि केंद्र और गुजरात सरकार जहां किसानों को सम्मानित कर रही है, वहीं बिहार सरकार ने यह योजना ठंडे बस्ते में डाल दी है। राज्य सरकार की विभिन्न योजनाओं का हश्र और बजट की राशि का बहुत कम हिस्सा खर्च होने का दावा करते हुए श्री मोदी ने कहा कि वर्ष 2013-14 में तो कृषि का भट्ठा ही बैठ गया है। इस अवधि में केवल भाजपा ही नहीं बल्कि जदयू मंत्रियों के विभागों का भी यह हाल है।

हालांकि मोदी ने कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह के बारे में कहा कि इसमें दोष उनका नहीं बल्कि नीतीश सरकार में मंत्रियों को काम ही नहीं करने दिया जाता। एक सवाल पर उन्होंने कहा कि मंत्रिमंडल विस्तार नहीं होने से मुख्यमंत्री की जिम्मेदारी बढ़ गई है। साथ ही चुनावी राजनीतिक व्यस्तता और फिर सरकार बचाने की जोड़-तोड़ के कारण विभागों का काम प्रभावित हो रहा है। उन्होंने दावा किया कि जदयू के एक विधायक के निधन और एक के पार्टी छोड़ देने से सरकार अल्पमत में आ गई है।

स्पीकर छोड़ दें तो विस में अब उसके अपने विधायकों की संख्या 122 के बहुमत से कम रह गई है। इस लिहाज से मुख्यमंत्री को अपनी सरकार के लिए नए सिरे से राज्यपाल को सपोर्ट लेटर देना चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कृषि पुरस्कार का अकेले श्रेय नहीं ले सकते सीएम :