DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मरीजों को भर्ती न करने पर ट्रॉमा सेंटर में हंगामा

लखनऊ। कार्यालय संवाददाता। केजीएमयू के ट्रॉमा सेंटर में मरीजों को लौटाए जाने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। मंगलवार को भी दिमागी बुखार से पीड़ित सोनू को डॉक्टरों ने भर्ती नहीं किया। डॉक्टरों ने मरीज को कभी ओपीडी तो कभी गांधी वार्ड तक दौड़ाया लेकिन कहीं भी परिवारीजनों को राहत नहीं मिली। निराश परिवारीजनों ट्रॉमा सेंटर में खूब हंगामा भी किया। थकहार कर दुखी परिवारीजनों ने प्राइवेट अस्पताल में मरीज को भर्ती कराया।

गाजीपुर निवासी रजनी के बेटा सोनू बुखार की चपेट में है। उसे झटके भी आ रहे थे। डॉक्टरों ने दिमागी बुखार बताया। गंभीर अवस्था में रजनी बेटे को लेकर करीब एक बजे ट्रॉमा सेंटर में पहुंची। यहां डॉक्टरों ने मरीज को ओपीडी भेज दिया। यहां जब तक वह पहुंची ओपीडी बंद हो चुकी थी। इसके बाद वह गांधी वार्ड गईं। यहां भी डॉक्टरों ने भर्ती करने से मनाकर दिया। दुखी परिवारीजन मरीज को लेकर दोबारा ट्रॉमा सेंटर पहुंचे। उनकी सुनवाई नहीं हुई।

ट्रॉमा सेंटर से मरीज को ओपीडी भेजते समय न तो स्ट्रेचर मुहैया कराया गया और न ही व्हील चेयर। मजबूरन तीमारदार मरीज को रिक्शे से लेकर भागते रहे। नाराज तीमारदारों ने हंगामा शुरू कर दिया। आरोप हैं कि कर्मचारियों के कहने पर सुरक्षाकर्मियों ने तीमारदारों को मरीज समेत बाहर कर दिया। आखिर में तीमारदारों ने मरीज को प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मरीजों को भर्ती न करने पर ट्रॉमा सेंटर में हंगामा