DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गैस मामले में एसीबी को दस्तावेजों का इंतजार

नई दिल्ली प्रमुख संवाददाता। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केजी बेसिन की प्राकृतिक गैस की कीमतों में कथित अनियमितताओं को लेकर केंद्रीय मंत्री वीरप्पा मोइली, पूर्व मंत्री मुरली देवड़ा तथा रिलायंस इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष मुकेश अंबानी सहित अन्य के खिलाफ मामला दर्ज करने के आदेश एंटी करप्शन ब्रांच को दे दिए है, लेकिन एसीबी के अधिकारी देर रात तक इस मामले में अधिकारिक तौर पर कुछ बोलने को तैयार नहीं हैं। उन्होंने सिर्फ इतना ही कहा कि जब तक दस्तावेज नहीं आते तब तक मामला कैसे दर्ज कर सकते हैं।

दस्तावेज मिलते ही मामला दर्ज करने की प्रकिया शुरू की जाएगी। जिस तरह से मुख्यमंत्री एक के बाद एक घोटाले से जुड़े मामलों की तफ्तीश एसीबी को सौंप रहे हैं उससे एसीबी के अधिकारी फिलहाल पशोपेश में हैं। सूत्रों का कहना है कि काफी समय से शांत चल रहा एसीबी विभाग इन दिनों काफी गरमा गया है, लेकिन वहां हाल ही में तैनात किए गए एक वरिष्ठ अधिकारी एक सप्ताह की छुट्टी पर चले गए हैं। पुराने तीन एसीपी स्तर के अधिकारियों का यहां से तबादला हो चुका है इसलिए एसीपी स्तर के अधिकारी यहां नहीं हैं।

लेकिन डीसीपी कॉमनवेल्थ गेम्स घोटाले से जुड़े दो मामलों के संबंध में एफआईआर दर्ज कर चुके हैं, इनमें पहली एफआईआर स्ट्रीट लाइट घोटाला तथा दूसरी एफआईआर सलीमगढ़ फोर्ट बाईपास घोटाले से जुड़ी है। सूत्रों का कहना है कि गैस मामला पेट्रोलियम मंत्रालय से जुड़ा है और यह केंद्र सरकार के अधीन है।

इसलिए दस्तावेज मिलने के बाद पहले अधिकारी कुछ कानूनी सलाह भी ले सकते हैं और उसके बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी। दूसरी तरफ सूत्रों का यह भी कहना है अगर दिल्ली सरकार की भ्रष्टाचार निरोधक शाखा गैस मामले में अपराधिक मामला दर्ज कर लेती है अगर केंद्र सरकार चाहे तो इस मामले की जांच बाद में सीबीआई से करा सकती है।

पहले भी कुछ ऐसे मामले सामने आए हैं जिसमें एससीबी ने मामले की जांच सीबीआई को सौंपी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गैस मामले में एसीबी को दस्तावेजों का इंतजार