DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बजट मिला तो नया होगा पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन

नई दिल्ली विवेक तिवारी। पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन के टूटते प्लेटफार्म, शेड, गंदी पटरियों व जाम ड्रेनेज को बुधवार को पेश होने वाले बजट से काफी उम्मीदें हैं। गौरतलब है कि दिल्ली मंडल का यात्री सुविधाओं के लिए मिला पिछला बजट दिसम्बर में ही खत्म हो चुका है। ऐसे में यात्री सुविधाओं के लिए प्रस्तावित विकास कार्य तीन महीने से पूरी तरह से ठप्प पड़े हैं। पिछले रेल बजट में यात्री सुविधाओं के मद में दिल्ली मंडल के 265 रेलवे स्टेशनों के लिए कुल 14 करोड़ रुपया मिला था।

इसका एक बड़ा हिस्सा मंत्रियों व वीआईपी लोगों के पसंदीदा नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के मेंटिनेंस में ही खर्च हो गए। रेलवे प्रशासन का उम्मीद है कि यदि इस बार बजट में 35 करोड़ रुपये मिल जाएं तो पुरानी दिल्ली सहित कई अन्य स्टेशनों पर यात्री सुविधाओं के लिहाज से कुछ अधूरे काम पूरे हो सकें। पुरानी दिल्ली का है बुरा हाल बजट के अभाव में पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन पर कई विकास कार्य अधूरे पड़े हैं। प्रमुख रूप से यहां पटरियों के नीचे वाशेबल एप्रेन बनने हैं।

इनके बनने के बाद पटरियों को पानी से धोया जा सकेगा जिससे पटरियां साफ रह सकेंगी। इसके अलावा कई प्लेटफार्म जगह - जगह से टूट रहे हैं। कई बार यात्रियों को इनसे चोट भी लगती रहती है। पैसा मिले तो इनकी भी रिपेयरिंग हो सके। इसक अलावा इस स्टेशन पर अंडर पास बनाने , टूटी शेड बनाने , पेय जल की व्यवस्था के लिए रेनी वेल बनाने आदि के महत्वपूर्ण कार्य बजट के अभाव में अटके पड़े हैं। सारय रोहिल्ला स्टेशन के लिए अधूरी पड़ी है सड़क वर्तमान समय में सराय रोहिल्ला स्टेशन तक पहुंचने के लिए आपको तंग गलियों से गुजरना पड़ता है।

कई बार यहां घंटों जाम भी लग जाता है जिससे यात्रियों की गाडिम्यां छूट जाती हैं। ऐसे में रेलवे ने लबिर्टी सिनेमा के पास से स्टेशन तक एक रोड़ बनाने का काम शुरू किया है। यह सड़क पटरियों के किनारे होते हुए सीधे स्टेशन पहुंच जाएगी।

इस सड़क के बनने से सफर आसान होगा व यात्री बिना जाम में फंसे कुछ ही मिनटों में स्टेशन तक पहुंच जाएंगे। बजट के अभाव में यह काम भी अटका पड़ा है। कई अन्य महत्वपूर्ण काम भी बाकीनई दिल्ली सहित कई रेलवे स्टेशनों पर एस्कलेटर लगाए जाने हैं।

कई एस्कलेटर तो सेंगशन हैं पर बजट के अभाव में वर्षो से लटके पड़े हैं। इसके अलावा आनंद वहिार रेलवे स्टेशन पर प्लेटफार्म का निर्माण , अंडर पास का निर्माण , होलम्बीकला व ब्रिजवासन स्टेशनों का विकास आदि काम बजट के अभाव में लटका पड़ा है।

हमने जरूरत के अनुरूप बजट के लिए बोर्ड को पहले ही लिख दिया था। जिनता पैसा मिलेगा उसके अनुसार काम किया जाएगा। हमारी प्राथमिकता पुरानी दिल्ली स्टेशन पर ड्रेनेज व्यवस्था को ठीक करने, वाशेबल एप्रेन बनाने, प्लेटफार्मो को ठीक करने तथा सराय रोहिला तक सड़क को दुरुस्त करने की होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बजट मिला तो नया होगा पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन