DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ड्रीम जॉब और उसका सच

हम सब अपने करियर में कुछ नया, कुछ विशेष और कुछ बड़ा प्राप्त करना चाहते हैं। इसके लिए जरूरी है एक ड्रीम जॉब का होना। एक ऐसी जॉब, जिससे जुड़ कर हमें काम का मजा तो आए, तरक्की के भी भरपूर अवसर हों। अधिकांश लोगों के लिए सच इससे जुदा होता है। तो क्या है ड्रीम जॉब की सच्चाई, बता रहे हैं सोवन त्रेहन।

काम वह कीजिए, जो आपको पसंद हो और फिर आपको एक भी दिन काम नहीं करना पड़ेगा। हम सब ने यह कहावत कई बार सुनी है। कुछ लोग अनजाने में ही अपनी जॉब को उपरोक्त कथन के अनुरूप ढालने का प्रयास करते हैं। दरअसल, हममें से कुछ ही किस्मत के धनी होते हैं, जिनके पास ड्रीम जॉब होती है, जबकि अधिकांश लगभग हर समय किसी बेहतर की तलाश में लगे रहते हैं। कई लोग यह भी नहीं बता पाते कि एक परफेक्ट जॉब से उनका मतलब क्या है। ऐसे लोगों को पता होता है कि उन्हें क्या नहीं करना, परंतु जब बात आती है अपने मौजूदा विकल्पों को रिव्यू करने की तो वे पसोपेश में पड़ जाते हैं। यह लेख उन लोगों के लिए है, जिन्हें पता है कि उन्हें जीवन में क्या करना है, साथ ही उन लोगों के लिए भी जिन्हें इल्म नहीं कि उन्हें क्या करना है और वह भीड़ में अपना स्थान तलाश रहे हैं। जो भी हो, कुछ बातों को जानना बहुत जरूरी है। कुछ तथ्य हैं जिन्हें पहले से ही जान लिया जाए तो बेहतर होगा।

आसानी से नहीं मिलती ड्रीम जॉब
कामकाजी जीवन की शुरुआत करते समय हमें सबसे पहले इस सत्य से रूबरू होना ही पड़ता है। इस सच को आत्मसात करने के लिए यह तथ्य आपकी मदद करेगा कि आप इस मामले में अकेले नहीं हैं।

सही समय कभी नहीं आता, शुरुआत अभी से
तो क्या हुआ कि आप अपने ड्रीम जॉब में व्यस्त नहीं हैं। तो क्या हुआ कि आपको यह भी नहीं पता कि आपका ड्रीम जॉब क्या है। इन रुकावटों का मतलब यह नहीं कि आप अपने प्रोफेशनल जीवन को शुरू होने से पहले ही रोक दें। किसी भी जॉब से शुरुआत करके अपने प्रोफेशनल जीवन का श्रीगणेश करें। अपने ड्रीम जॉब की सीढ़ियां आप बाद में चढ़ेंगे। हममें से अधिकांश को अपने जीवन में एकाध बार यह अहसास होता है कि अपने काम से हम नाखुश हैं। हमें अहसास होता है कि जब हमने अपने कार्य का चुनाव किया था, उस समय हम गलती पर थे। यदि आपके साथ भी ऐसा होता है तो परेशान न हों। करियर में परिवर्तन की कार्य योजना पर तभी सोचें, जब अगली जॉब हो।

अपने प्रोफेशनल विकल्प तलाशें
रिस्क लेना जरूरी होता है। ऐसा कुछ काम जरूर करें जो लीक से हट कर हो, ताकि अपने करियर के अंत में आपको इस बात का मलाल न रहे कि आपको अपने कुछ विकल्प इस्तेमाल करने चाहिए थे।

पीछे न हटें
यह नियम हरेक इनसान को जीवन के प्रत्येक चरण में काम में लाना चाहिए। सवाल यही है कि आपको आपकी मौजूदा जॉब पसंद नहीं है? इसका यह मतलब भी नहीं कि इस जॉब का कोई लाभ ही नहीं है। मौजूदा जॉब के सभी पक्षों का आकलन करें और उचित समय तक सोचने के बाद ही एक संतुलित निर्णय लें।

बॉस की बात
ऐसा भी समय आता है जब आपको लगता है कि आपके बॉस का व्यवहार अनुचित है या वह आपके प्रति किसी पूर्वाग्रह से ग्रसित है, ऐसे समय में सबसे अच्छा यही होगा कि बॉस को मैनेज करें। जी हां, जीवन में अक्सर ऐसी समस्याएं आती रहती हैं और उनसे जूझना आसान नहीं होता। अलग-अलग लोगों से विशिष्ट तरीकों से ही डील किया जाता है। बॉस से डील करना हो तो बिना निजी हुए कूटनीतिक तरीका ही सर्वश्रेष्ठ होता है। यदि फिर भी आपको हालात असहनीय लगें तो बेशक नौकरी को अलविदा कह सकते हैं, लेकिन अगली नौकरी पकड़ने के बाद ही ऐसा करना बेहतर होगा।

सबसे जरूरी गुर
यदि आपको अपनी पसंद की नौकरी यानी ड्रीम जॉब मिल गई है तो ऐसा लगेगा कि आपको बहुत ज्यादा काम करना पड़ रहा है। ऐसे में जरूरी है कि आप अपनी महत्वाकांक्षाओं को यथार्थवादी दृष्टिकोण से सोचें। बेशक आपको अपनी पसंद की नौकरी मिल गई है, परंतु अब यह सोचना कि वहां काम बिना किसी रुकावट के चलेगा, बहुत बड़ी भूल होगी। जरूरी बात यह है कि आप दिशाभ्रम के शिकार न बनें और आपको हमेशा याद रहे कि यही काम आपकी पहली पसंद है। इस दुनिया में सभी कार्य प्रयास मांगते हैं, परंतु साथ ही वह हमें विकसित करने में भी मदद करते हैं। एक जरूरी सलाह यह भी कि अपनी ड्रीम जॉब की कल्पना को किसी अव्यवहारिक धरातल पर साकार मत करें। कार्य का एक समय बाद फल भी मिले, क्योंकि अक्सर ऐसा होता है कि आपको परफेक्ट जॉब नहीं मिलती; अधिकांशत: आपको सामने आए कार्य को अपने अनुरूप परफेक्ट बनाना पड़ता है।

करें खुद पर गौर..
आपके कार्यालय में आपका व्यक्तित्व कैसा दिखता है ?
आप..

(1) नए प्रोजेक्ट्स पर कार्य करने को उत्साहित रहते हैं
(2) अनुशासित और नियमों का पालन करते हैं
(3) नियंत्रित, सहनशील व सहानुभूतिपूर्ण रहते हैं
(4) लक्ष्य उन्मुख व गतिशील रहते हैं
(5) अकेले काम करने की बजाए टीम वर्क में विश्वास
रखते हैं

कार्यालय में आपका निकटतम सहकर्मी होगा..
(1) जो अपने काम में निपुण हो
(2) जो रचनात्मक और नवीन विचार रखता हो
(3) जो अपने काम में तल्लीन रहता हो
(4) आपके प्रभारी
(5) जो आपके बराबर विचारों का आदान-प्रदान करे

मीटिंग्स के दौरान आप..
(1) विचार व्यक्त करने के लिए बीच में ही बोल पड़ते हैं
(2) प्रत्येक विचार का विश्लेषण करते हैं
(3) विचार व्यक्त करने के लिए अपनी बारी का इंतजार करते हैं
(4) दूसरों के विचारों के खिलाफ बोलते हुए अपने विचार सामने रखते हैं
(5) दूसरे के विचारों का समर्थन करते हैं

जब कोई टीम असाइनमेंट दिया जाए तो आप..
(1) प्रत्येक विचार में नया दृष्टिकोण सामने लाते हैं
(2) अपने समूह का सामथ्र्य बढ़ाने के लिए कार्य करते हैं
(3) जो काम आपको दिया जाए, उसे स्वीकार कर पूरा करते हैं
(4) अपने समूह के नेतृत्व की जिम्मेदारी संभाल सकते हैं
(5) सुनिश्चित करते हैं कि सभी सहकर्मियों को कार्य व विचारों में समान सहभागिता मिले

यदि कार्यालय में किसी के साथ विवाद हो तो आप..
(1) उसे बाद के लिए टाल देंगे
(2) शांत रहेंगे और उस व्यक्ति से बात करेंगे
(3) उस व्यक्ति को पूरी तरह से नजरअंदाज करेंगे
(4) विवाद को जितनी शांति से हो सुलझाने की कोशिश करेंगे
 
यदि आप कार्यालय की पार्टी में आमंत्रित हों, तब आप..
(1) नए लोगों से मिलते-जुलते हैं
(2) दूसरे विभागों के मित्रों से मुलाकात करते हैं
(3) पार्टी में नहीं जाते क्योंकि आपको घुलना-मिलना पसंद नहीं
(4) प्रबंधकों से कारोबारी नीतियों पर बात करते हैं
(5) सभी का मनोरंजन करते हैं क्योंकि आप पार्टी की जान हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ड्रीम जॉब और उसका सच