DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुकदमेबाजी के कारण थानों में खडे वाहन कबाड़ बने

उत्तर प्रदेश में हमीरपुर जिले के थानों में खडे करोडों रुपए कीमत के हजारों वाहन कबाड़ में तव्दील हो रहे हैं और इनका कोई पुरसा हाल नहीं रह गया है। थानों में बंद वाहनों का समय से निस्तारण न होने से वाहन खडे-खडे सड़ रहे हैं।

पुलिस अधीक्षक दिनेश चन्द्र ने बताया कि थानों में इन वाहनों से मुकदमें लंबित हैं और न्यायालय से इनका निस्तारण होने पर ही ये वाहन छोडे़ जाएंगे।

जिले के सुमेरपुर थाने में जहां ट्रक, बस, आटो, ट्रैकटर, मोटरसाइकिलें सहित और भी तमाम कीमती वाहन सड़ रहे हैं और फैकट्री एरिया चौकी का नजारा भी ऐसा ही है यहां तकरीबन ऐसे ही नजारे जिले के मौदहा, कुरारा, लालपुर, बिवार, मुस्कुरा, राठ, जलालपुर, मझगवा, चिकासी, सिसोल, हमीरपुर कोतवाली आदि सभी थानों का है जहां वाहनों का अम्बार लगा हुआ है। सालों से इन थानों में खडे वाहन कबाड में तव्दील हो रहे हैं। 

थानों में खडे आम आदमी के वाहनो के साथ-साथ पुलिस विभाग के सरकारी वाहन खडे-खडे कबाड़ में तव्दील हो रहे हैं। एक ओर जहां पुलिस के आलाअधिकारी इस पूरे मामले में न्यायालय का हवाला देकर अपना पल्ला झाड रहे हें वहीं समाज सेवी समयवद्ध निस्तारण नीति पर सवालिया निशान लगा रहे हैं।

जिले के समाज सेवी देवी प्रसाद गुप्ता का कहना है कि यदि पुलिस और अदालते समयबद्ध ढंग से मामलों का निस्तारण करें तो करोडों रुपया मूल्य के वाहनों को नष्ट होने से बचाया जा सकता है। बात सिर्फ हमीरपुर जिले के थानों में कबाड़ हो रहे वाहनों की नहीं है यही हाल पूरे प्रदेश के हर थाने का है जहां पकडे़ गए वाहनों का ढेर लगा है। थानों में इतनी ज्यादा गाडियां खडी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मुकदमेबाजी के कारण थानों में खडे वाहन कबाड़ बने